आरोपितों का नहीं लगा सुराग, पुलिस खाली हाथ

आरोपितों का नहीं लगा सुराग, पुलिस खाली हाथ

संतकबीर नगर मेंहदावल के भैंसामाफी गांव में फर्जी दस्तावेज के बल पर मतदाता बनने वाले आरोपितों का पुलिस दो दिन बाद भी सुराग नहीं लगा सकी। दो दिन बीत गए पर पुलिस आरोपितों को पकड़ नहीं सकी।

Publish Date:Thu, 14 Jan 2021 10:53 PM (IST) Author: Jagran

संतकबीर नगर : मेंहदावल के भैंसामाफी गांव में फर्जी दस्तावेज के बल पर मतदाता बनने वाले आरोपितों का पुलिस दो दिन बाद भी सुराग नहीं लगा सकी। पुलिस की सारी कार्रवाई संरक्षण देने वालों से पूछताछ करने तक सीमित होकर रह गई है।

मेंहदावल पुलिस सहायक विकास अधिकारी दीप श्रीवास्तव के द्वारा सौंपे गए साक्ष्य की जांच कर दो दिन से सुबूत जुटा रही है। आधा दर्जन लोगों को थाने पर लाकर पूछताछ की जा रही है पर अभी कोई खास सुराग हासिल नहीं कर सकी।

थानाध्यक्ष प्रदीप कुमार सिंह ने कहा कि भैंसामाफी ग्राम पंचायत में मतदाता सूची में धांधली के मामले में जिन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है उनका साक्ष्य संकलन किया जा रहा है। प्रथम²ष्टया जिन पर आरोप साबित होते दिख रहे हैं सब को गिरफ्तार कर जेल भेजने की प्रक्रिया जल्द पूरी की जाएगी। एसडीएम अजय कुमार त्रिपाठी ने बताया कि मतदाता सूची को शत प्रतिशत शुद्ध बनाने के लिए लगातार सक्रियता बरती जा रही है। भैंसामाफी के मामले में कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। अन्य स्थानों पर जहां कहीं से भी लापरवाही व अनियमितता सामने आएगी संबंधित के खिलाफ तत्काल मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। पुलिस के पहुंचने से पहले जला दिया युवक का शव

संतकबीर नगर: धनघटा थानाक्षेत्र के सुरैना गांव निवासी 28 वर्षीय शरद पुत्र यशोदा की बुधवार की रात रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई। पुलिस के पहुंचने से पहले ही स्वजन ने आनन-फानन में शव जला दिया।

स्वजन ने बताया कि बुधवार को भोजन के बाद शरद कमरे में सोने चला गया। रात में उसकी तबीयत बिगड़ने पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र-हैंसर बाजार पहुंचाया। ्रडाक्टरों ने जांच के बाद इस युवक को मृत घोषित कर दिया। स्वजन शव को लेकर गांव चले गए और बिड़हरघाट में शव का दाह संस्कार कर दिया। डाक्टरों की सूचना पर पुलिस पंचनामा के लिए सुरैना गांव में पहुंची। शव न मिलने पर घाट पर गई तब तक शव जल चुका था। थानाध्यक्ष आरके गौतम ने कहा कि युवक के मरने के कारण की जांच की जा रही है। अस्पताल से जबरन शव ले जाना गंभीर मामला है। जांच में दोषी मिले लोगों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.