कटान करते हुए बंधे तक पहुंची सरयू, उग्र हुए ग्रामीण

अब नदी और बंधे के बीच मात्र 15 मीटर की दूरी बची है।

JagranSat, 25 Sep 2021 11:32 PM (IST)
कटान करते हुए बंधे तक पहुंची सरयू, उग्र हुए ग्रामीण

संतकबीर नगर: धनघटा तहसील क्षेत्र से होकर बह रही सरयू नदी तुर्कलिया के पास तेजी से कटान कर रही है। पिछले 20 दिनों में नदी पांच सौ मीटर तक कटान करते हुए मकदूमपुर बहराडाड़ी (बीएमडी) बंधे तक पहुंच गई है। अब नदी और बंधे के बीच मात्र 15 मीटर की दूरी बची है। नदी के खतरनाक रुख और कटान रोकने के जिम्मेदारों की लापरवाही देख गांव के लोग उग्र हो गए। ग्रामीणों को संभालने के लिए पुलिस लगानी पड़ी। एसडीएम और थानेदार ने लोगों को समझाकर कटान स्थल पर काम शुरू करवाया। ग्रामीणों को लग रहा है कि यदि नदी इसी तरह से कटान करती रही तो उनके गांव का अस्तित्व मिट जाएगा।

सरयू नदी का जलस्तर स्थिर होने के बाद कटान तेज हो गई है। नदी नीचे से तेजी से कटान कर रही है। सरयू फिलहाल 78.600 मीटर पर बह रही है। तुर्कवलिया में खतरे का निशान 79.350 मीटर है। नदी अभी खतरे के निशान से 75 सेमी नीचे है। नदी कटान करते हुए बंधे से मात्र 15 मीटर दूर रह गई है। नदी के रुख को देखकर शनिवार को तुर्कवलिया गांव के लोग उग्र हो गए। गांव के शिव मूरत, महेश, राम सजीवन, कुमार, राजेश, रामवृक्ष, राममिलन, बाबूलाल निषाद, मुसाफिर, केशव, सीताराम, इंदल, राजेंद्र राम, नवल, वीरेंद्र यादव आदि लोगों का कहना है कि सरयू की कटान दिनों-दिन बढ़ती जा रही है, लेकिन विभाग केवल बोरी में मिट्टी भरकर कटान रोकने की व्यवस्था कर रहा है। पिछले एक पखवारे से गांव के लोग कटान रोकने की मांग कर रहे हैं लेकिन जिम्मेदार सिर्फ लोगों को गुमराह कर रहे हैं। 20 दिन में नदी करीब पांच सौ मीटर तक कटान कर चुकी है। अगर इसी तरह से कटान होती रही तो वह दिन दूर नहीं होगा। जब 2013 की तरह से हम लोग तबाही के मुंह में समा जाएंगे। उस समय भी ग्रामीण अधिकारियों को बताते रहे लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई थी। तब सात गांव नदी की धारा में पूरी तरह से विलीन हो गए थे। तटवासियों का कहना है कि हम लोगों की खेती तो नदी की धारा में समा गई है, अब कटान करते हुए अगर बंधा को भी सरयू नदी निगल गई तो हम लोगों के घर भी खत्म हो जाएंगे।

ग्रामीणों के उग्र होने और कटान तेज होने की सूचना पर एसडीएम योगेश्वर सिंह धनघटा के थानेदार अनिल कुमार दूबे और पुलिस कर्मियों के साथ पहुंचकर वस्तुस्थिति के बारे में जानकारी ली। उग्र ग्रामीणों को समझाया और सिचाई विभाग के अधिशासी अभियंता से कटान रोकने को कहा। एसडीएम ने जिम्मेदारों को निर्देश देते हुए कहा कि कटान पर अंकुश हर हाल में लगनी चाहिए। अधिशासी अभियंता अजय कुमार ने बताया कि बंधे की सुरक्षा के लिए हम लोग लगे हुए हैं। कटान रोकने का काम किया जा रहा है। बंधे की सुरक्षा हर हाल में की जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.