घरों तक पहुंचा बारिश का पानी, बढ़ी परेशानी

बखिरा नगर पंचायत के लेडुआ-महुआ में हल्की बारिश में ही भर जाता है पानी सड़कों पर जलजमाव से आवागमन में हो रही समस्या

JagranSat, 24 Jul 2021 12:06 AM (IST)
घरों तक पहुंचा बारिश का पानी, बढ़ी परेशानी

जागरण संवाददाता, संतकबीर नगर : नगर पंचायत बखिरा के लेडुआ-महुआ में घरों तक गंदा पानी पहुंच गया है, लेकिन उसे निकालने की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। यहां जल निकासी व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त है।

लेडुआ-महुआ की आबादी और करीब तीस हजार है। यह जनपद का सबसे बड़ा गांव माना जाता है। पहले यह बघौली ब्लाक का हिस्सा था, अब यह बखिरा नगर पंचायत का अंग है। अल्पसंख्यक बाहुल्य इस गांव में बुनकरों की संख्या हजारों में है, जो पावरलूम चलाकर अपनी आजीविका चलाते हैं। गांव में जाने वाले मुख्य सड़क पर नालियों का पानी फैला हुआ है। यहां के इशहाक अंसारी, हवीबुल्लाह, रियाजुद्दीन, अख्तर अली, असदुदोज्जा, गुलाम रसूल, साबिर हुसैन, अब्दुल करीम, मकसूद आदि ने कहा कि हर वर्ष बारिश के मौसम में समस्या आती है। नाले और नालियों की सफाई नहीं होने से बरसात के मौसम में यहां के लोग नारकीय जीवन जीने को मजबूर होते हैं। तेज बारिश होने के बाद घरों में पानी घुस जाता है जो पूरे सप्ताह लोगों का जीवन नरक बनाए रखता है। यहां के लोग गंदगी को लेकर तो पूरे वर्ष झेलते हैं। यह समस्याएं यहां की पहचान बन चुकी है। नगर पंचायत बनने के बाद भी यहां के लोगों की जिदगी नहीं बदली। विकास के नाम पर कुछ नहीं हुआ। नालियों की सफाई तक नहीं होने से बारिश में समस्या उत्पन्न हो जाती है। पिछले तीन दिनों की बारिश में 20 से अधिक लोगों के घरों में पानी घुस गया है। सभी ने जल निकासी के साथ ही सफाई का प्रबंध करवाने के लिए डीएम से गुहार लगाई है।

प्रभारी अधिशासी अधिकारी, बखिरा प्रदीप शुक्ल ने कहा कि सड़क नीची है। जो नाली बनी है वह भी यहां की जलनिकासी की व्यवस्था के लिए पर्याप्त नहीं है। यहां की आबादी बहुत अधिक है और घनी बस्ती के चलते लोगों के घरों का पानी निकलने में दिक्कत होती है। बारिश होने पर समस्या बढ़ जाती है। नगर प्रशासन अभी सड़कों और घरों में घुसे पानी को निकलवाने की व्यवस्था में जुटा है। जल्द ही यहां की समस्या दूर कर ली जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.