यूरिया का है पर्याप्त भंडार डीएपी की लगने वाली है रैक

खरीफ की बुवाई के लिए यूरिया व डीएपी की मांग भी बढ़ जाती है। इसे देख विभाग ने पहले से ही अपनी तैयारी कर ली है। जनपद में यूरिया की कोई कमी नहीं है और डीएपी की रैक भी जून के प्रथम माह में लगने वाली है। मतलब साफ है कि जब तक बुवाई शुरू होगी तब जनपद में खाद की कोई कमी नहीं रहेगी।

JagranSun, 30 May 2021 09:23 PM (IST)
यूरिया का है पर्याप्त भंडार डीएपी की लगने वाली है रैक

सहारनपुर, जेएनएन। खरीफ की बुवाई के लिए यूरिया व डीएपी की मांग भी बढ़ जाती है। इसे देख विभाग ने पहले से ही अपनी तैयारी कर ली है। जनपद में यूरिया की कोई कमी नहीं है और डीएपी की रैक भी जून के प्रथम माह में लगने वाली है। मतलब साफ है कि जब तक बुवाई शुरू होगी तब जनपद में खाद की कोई कमी नहीं रहेगी।

खरीफ की फसलों का सीजन आने वाला है। किसान उसकी तैयारी में भी जुट गए हैं। जनपद में खरीफ की फसल के नाम पर धान की रोपाई सबसे ज्यादा की जाती है। जनपद में करीब 55 हजार हेक्टेयर रकबे में धान की फसल होती है। इसके अलावा सब्जियों का ही उत्पादन होता है। कुछ किसानों ने तो धान लगाना शुरू भी कर दिया है। जिसे अगेती धान कहते हैं जून जुलाई में धान की रोपाई पूरी हो जाएगी। आम तौर पर धान तीन या साढे तीन महीनें में तैयार हो जाता है मगर धान में 1509 की प्रजाति सबसे जल्दी तैयार हो जाती है।

प्राइवेट दुकानों को छोड़ दिया जाए तो जनपद में इफको और कृभकों की दुकानें समेत करीब 150 सहकारी समितियां जिनके माध्यम से किसान को खाद उपलब्ध होता है। कृषि विभाग की माने तो इन सब पर पर्याप्त मात्रा में यूरिया उपलब्ध है। जबकि दाम के कारण डीएपी की आमद रुकी हुई थी जो अब आना शुरू हुआ है एक रैक पिछले हफ्ते आई थी और एक रैक जून के प्रथम सप्ताह में लगने वाली है।

-इनका कहना है..

जनपद में यूरिया व डीएपी की कोई समस्या नहीं है। बुवाई जून जुलाई में होती है और तब तक डीएपी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो जाएगा। अभी एनपीके सभी समितियों पर उपलब्ध है। शासन के निर्देशानुसार समय-समय पर खाद पर उनके स्टाक की जांच की जा रही है कि कहीं कोई जमाखोरी तो नहीं कर रहा है।

धीरज सिंह, जिला कृषि अधिकारी सहारनपुर।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.