एमआरएफ सेंटर के कूडे़ से दस हजार की आमदनी

एमआरएफ सेंटर के कूडे़ से दस हजार की आमदनी

नगर निगम ने कूडे़ को सिक्कों की खनखनाहट में बदलना शुरु कर दिया है। एमआरएफ सेंटरों पर एकत्रित कूडे़ को अलग-अलग कर उसे बेचने से निगम की आमदनी शुरु हो गई है।

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 10:22 PM (IST) Author: Jagran

सहारनपुर, जेएनएन। नगर निगम ने कूडे़ को सिक्कों की खनखनाहट में बदलना शुरु कर दिया है। एमआरएफ सेंटरों पर एकत्रित कूडे़ को अलग-अलग कर उसे बेचने से निगम की आमदनी शुरु हो गई है। मातागढ़ के एमआरएफ से निगम को दस हजार रुपये से अधिक की आमदनी हुई है।

नगर आयुक्त ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि महानगर को कूड़ा मुक्त कर स्वच्छता में नंबर वन पर लाने का अभियान चल रहा है। कूड़े कचरे का सही निस्तारण करने के प्रयासों के तहत ही अलग-अलग नौ तरह का कूड़ा छांटकर उसे बेचा जा रहा है, इससे जहां निगम की आय होने लगी है वहीं लोगों को रोजगार भी मिलने लगा है। उन्होंने बताया कि आईटीसी मिशन सुनहरा कल के तहत उमंग सुनहरा कल सेवा समिति द्वारा संचालित मातागढ़ के मैटीरियल रिकवरी सेंटर से दोबारा इस्तेमाल में आने वाले कचरे को अलग-अलग करा कर बेचा गया है। जिससे 10 हजार 61 रुपये की आमदनी हुई है।

मुख्य सफाई निरीक्षक अमित तोमर ने बताया कि मातागढ़ पर आसपास के पांच वार्डो जिनमें वार्ड 22, वार्ड 30, वार्ड 51, वार्ड 46 व वार्ड 35 का कचरा अलग -अलग किया जाता है। उन्होंने बताया कि हर रोज निगम की सात छोटी गाड़ियों तथा रिक्शा के माध्यम से सफाई कर्मचारी घरों से कूड़ा उठान कर सीधे मातागढ़ एमआरएफ सेंटर पर लाते हैं। सुनहरा कल उमंग के प्रबंधक मयंक पाण्डेय ने बताया कि मातागढ़ एमआरएफ पर मौजूद कर्मचारियों द्वारा नौ अलग-अलग भागों में कूड़ा छांटकर अलग किया जाता है। जिसमें गत्ता, प्लास्टिक बोतल, टीन,कांच व रबर आदि शामिल है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.