स्मार्ट सिटी कार्य तेजी से कराने को प्रशासन गंभीर: मंडलायुक्त

सहारनपुर : स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक संबंधित अधिकारियों एवं नामित एजेंसियों के साथ हुई। साथ ही बोर्ड आफ डायरेक्टर्स के चेयरमैन के लिये नामित मंडलायुक्त को चेयरमैनशिप दी गयी। बोर्ड की बैठक में दो

स्वतंत्र निर्देशक का चयन किया गया। इसके अलावा मीडिया एडवाइजर का प्रस्ताव बोर्ड के सामने रखा गया।

शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित बोर्ड बैठक में मण्डलायुक्त सीपी त्रिपाठी ने पीडब्लूसी एवं आइएलएफएस कम्पनियों को निर्देशित किया कि जितनी भी परियोजनाएं हैं, उन पर केन्द्र सरकार के निर्देशन पर ही कार्य किए जाएं।

पीएमसी द्वारा पिछली बोर्ड मी¨टग में प्रस्तुत रिपोर्टों के अवलोकन एवं स्वीकृति हेतु बोर्ड द्वारा तकनीकी कमेटी को

निर्देशित किया। मण्डलायुक्त ने नामित कम्पनियों व अधिकारियों को निर्देशित किया कि स्मार्ट सिटी से सबंधित सभी रिपोर्ट अन्य स्मार्ट शहरों के तर्ज पर ही बनाई जाएं। उन्होंने एरिया बेस डेवलेपमेन्ट एवं पेन सिटी प्रोजेक्ट के अवलोकन पश्चात यह निर्णय लिया कि स्मार्ट सिटी के तहत सबसे पहले छोटी-छोटी परियोजनाओं को प्राथमिकता देते हुए तेजी से कार्य शुरू करायें। उन्होने एजेंसी प्रतिनिधियों को आगाह करते हुए कहा कि स्मार्ट सिटी के तहत जो

भी कार्य कराये जायें उसकी जानकारी आम जनता को भी होनी चाहिए।

उन्होने फिजिबिलिटि रिपोर्ट के बाद डीपीआर बनाने तथा तकनीकी समिति की बैठक में रुड़की विश्वविद्यालय के एक्सपर्ट को भी बुलाने की बात कही। उन्होने कहा कि भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा जारी किये गये दिशा निर्देशो के अनुसार स्मार्ट सिटी के तहत तेजी से कार्य कराने के लिये जिला प्रशासन पूरी तरह सजग व संवेदनशील है। इस दिशा में किसी प्रकार की देरी क्षम्य नही होगी। बैठक में स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत सीसीटीवी कैमरा, मल्टी लेवल पार्क, एलईडी, स्मार्ट रोड, वाई-फाई आदि पर गम्भीरता पूर्वक विचार-विमर्श किया गया। इस

मौके पर डीएम आलोक कुमार पाण्डेय, नगर आयुक्त ज्ञानेन्द्र ¨सह,

वीसी सुखलाल भारती, मुख्य अधिशासी अभियन्ता डीसी झा, जल निगम आदि के अधिकारी मौजूद रहे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.