top menutop menutop menu

एलएलबी छात्रों का अनिश्चितकालीन धरना जारी

सहारनपुर, जेएनएन। जेवी जैन कालेज में एलएलबी में प्रवेश को लेकर छात्रों का अनिश्चितकालीन धरना दूसरे दिन भी जारी रहा। इस दौरान छात्रों ने कालेज प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कहा कि मांग पूरी होने तक विरोध जारी रहेगा। कई संगठनों ने धरने को समर्थन की घोषणा की।

मंगलवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संपर्क प्रमुख मोहित पंडित के साथ कार्यकर्ता व छात्र-छात्राएं धरने पर डटे रहे, जिनका कहना है कि सोमवार रात में कालेज और जिला प्रशासन द्वारा धरनारत छात्रों को सुरक्षा नहीं दी। अखिल भारतीय अन्याय विरोधी परिषद उप्र के महामंत्री राजेश तायल, सीवाइएसएस के मंडल अध्यक्ष आलोक वर्मा व महाराज सिंह कालेज के छात्रसंघ ने आंदोलन को समर्थन दिया। छात्रा संध्या व रीतू का कहना था कि एलएलबी प्रथम वर्ष में तीन अक्टूबर को उनके दाखिले कर लिए गए थे। कक्षा में पहुंचे कक्षाएं नहीं चली। ऐसे में छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। छात्र रियासत, रजत व वामन ने चेताया कि अगर बुधवार तक उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वे भूख हड़ताल शुरू कर देंगे।

कालेज ने दिया फीस वापसी का ऑफर

सहारनपुर: जेवी जैन कालेज के प्राचार्य डा. वकुल बंसल ने बताया कि एलएलबी प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया को वांछित संबंद्धता शुल्क जमा करने की प्रक्रिया 10 अक्टूबर को पूरी कर ली गई थी। संबंद्धता प्रदत्त करने की प्रत्याशा में अल्पसंख्यक कोटे के अंतर्गत 23 अभ्यर्थियों के प्रवेश किए गए थे। सभी प्रयासों के बावजूद बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा एलएलबी की संबंद्धता के लिए कोई पत्र जारी नहीं किया गया। मंगलवार को विधि विभागाध्यक्ष डा. अशोक कुमार शर्मा को बार कौंसिल ऑफ इंडिया भेजा गया। उन्होंने बताया कि संबंद्धता अधिकारिक रूप से प्राप्त होने में एक सप्ताह का समय और लगेगा। 10 दिसंबर से एलएलबी की परीक्षाएं प्रस्तावित हैं। वर्तमान सत्र के प्रवेश अब किसी भी दशा में संभव नहीं। जिन छात्र-छात्राओं ने अल्पसंख्यक कोटे में प्रवेश लिया है और वे फीस वापसी के इच्छुक हैं। अपना आवेदन पत्र कालेज में प्रस्तुत करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.