श्रद्धालुओं ने निकाली जल कलश यात्रा

नकुड़ में जैन धर्म के अनंत चतुर्दशी पर्व के अवसर पर नगर के जैन धर्मावलंबियों द्वारा जलकलश यात्रा निकाली गई।जलकलश यात्रा श्री दिगंबर जैन आदिनाथ मंदिर से प्रारंभ होकर चन्द्रप्रभु चैतालय पहुंची। इस अवसर पर जैन मिलन व महिला जैन मिलन की ओर से विभिन्न धार्मिक व सांस्कृतिक प्रतियोगिताओ के विजेताओं को पुरस्कार भी प्रदान किए गए।

JagranMon, 20 Sep 2021 10:43 PM (IST)
श्रद्धालुओं ने निकाली जल कलश यात्रा

जेएनएन, सहारनपुर। नकुड़ में जैन धर्म के अनंत चतुर्दशी पर्व के अवसर पर नगर के जैन धर्मावलंबियों द्वारा जलकलश यात्रा निकाली गई।जलकलश यात्रा श्री दिगंबर जैन आदिनाथ मंदिर से प्रारंभ होकर चन्द्रप्रभु चैतालय पहुंची। इस अवसर पर जैन मिलन व महिला जैन मिलन की ओर से विभिन्न धार्मिक व सांस्कृतिक प्रतियोगिताओ के विजेताओं को पुरस्कार भी प्रदान किए गए।

सोमवार को अनंत चतुर्दशी पर्व पर सुबह से ही भगवान आदिनाथ जैन मंदिर व चंद्रप्रभु चैतालय में जैन श्रद्धालुओ द्वारा पूजा-अर्चना की गई। जलकलश यात्रा में इंद्र बने बच्चे जल कलश लेकर चल रहे थे। जबकि जैन श्रद्धालु नंगे पांव चलकर भजन गा रहे थे। जलकलश यात्रा जैन चौक से होकर चंद्रप्रभु चैतालय पहुंची जहाँ पर श्री जी का जलाभिषेक किया गया तथा नृत्य प्रस्तुत किये गए। जैन मंदिर में इंद्रों द्वारा भगवान श्री के जयनाद के साथ जलाभिषेक किया गया। इस मौके पर प्रीतम प्रसाद जैन, पंकज जैन, राजेश जैन राजू, राजीव, पीयूष जैन, संजीव जैन, संयम जैन, राजेश जैन, मनोज जैन, धीरज जैन, वर्धन जैन आदि रहे। भगवान जिनेन्द्र का जलाभिषेक किया

अंबेहटा : दशलक्षण धर्म शाश्वत महापर्व के उत्तम क्षमा धर्म पर्व पर में नगर के श्री पारसनाथ दिगंबर जैन मंदिर में महिलाओ व पुरुषों ने विशेष पूजा अर्चना की । सोमवार को दशलक्षण पर्व के उत्तम क्षमा दिवस पर मंदिर में पूजा अर्चना की गयी तत्पश्चात भगवान जिनेन्द्र का जलाभिषेक किया गया। पर्यूषण पर्व के समापन पर जगह-जगह क्षमावाणी पर्व मनाया गया। उत्तम क्षमा कहते हुए लोगो ने एक-दूसरे से क्षमा याचना की। क्षमावाणी पर्व पर जैन अनुयायी व अन्य धर्म लोग एक-दूसरे से क्षमा याचना कर सभी बुराईयों, मनमुटाव और झगड़ों को दूर करने का प्रयास किया । क्षमावाणी की विशेषता है कि इस दिन दुश्मन भी गले मिलकर एक हो जाते हैं। सोशल मीडिया पर भी क्षमावाणी और उत्तम क्षमा के मैसेज जमकर वायरल हुये । भगवान जिनेंद्र की शोभायात्रा निकाली

नानौता : दस लक्षण महापर्व के बाद सोमवार को जैन समाज ने क्षमावाणी पर्व मनाया। इस दौरान भगवान जिनेंद्र की सूक्ष्म शोभायात्रा पैदल ही निकाली गई। वहीं समाजजनों ने जाने-अंजाने हुए अपराध व गलतियों के लिए एक-दूसरे से क्षमा याचना की।

जैन समाज के लोगों ने बताया कि क्षमावाणी पर्व पर लोगों ने क्षमा याचना करते हुए द्वेष एवं मतभेदों को भुलाने का संकल्प लिया। सोमवार को निकाली गई शोभायात्रा नगर स्थित छोटे जैन मंदिर से शुरू हुई और भक्तजनों ने मंदिर की पैदल ही परिक्रमा करते हुए वापिस मन्दिर में पहुंचकर श्रीजी का जलाभिषेक किया। इस यात्रा में श्री जी को लेकर अंकुश जैन चले जबकि दाएं एवं बाएं इंद्र ऋषभ जैन और वैभव जैन रहे। यात्रा में नितिन कुमार जैन, पंकज जैन,छोटनलाल, रोबिन कुमार, प्रमोद कुमार, अंकुर जैन,पीयूष कुमार,सतीश कुमार, काकू जैन व तरुण कुमार आदि शामिल रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.