top menutop menutop menu

बगैर आय प्रमाण पत्र मिलेगा पीएम स्वनिधि योजना में लोन

सहारनपुर जेएनएन। पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना शुरू होते ही नगर निगम द्वारा भी पीएम स्वनिधि योजना के पोर्टल पर वेंडर्स के ऋण आवेदन भेजने का कार्य शुरू कर दिया गया है। नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह व अनेक वार्डों के पार्षदों ने निगम के वाररूम में स्वयं इस प्रक्रिया को देखा और उस पर संतोष व्यक्त किया। योजना के लिए आय प्रमाणपत्र की आवश्यकता भी नहीं है। गुरुवार को रोटरी भवन से दर्जनों वेंडरों के आवेदन भेजे गए।

गुरुवार से रोटरी भवन पर लोन के लिए वेंडरों के आवेदन निगम द्वारा स्वनिधि पोर्टल पर भेजने का काम भी शुरु कर दिया गया। निगम के आइटी प्रभारी मोहित तलवार ने बताया कि उन लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा है जिन लोगों का मोबाइल नंबर आधार कार्ड से अलग है, या जिनका आधार कार्ड, बैंक एकाउंट नंबर से लिक नहीं है। नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह ने निगम बोर्ड के उपसभापति रमेश छाबड़ा, पार्षद पुनीत चौहान, संजय गर्ग, आशुतोष सहगल, सिद्धार्थ सैनी, यशपाल पुंडीर, प्रदीप पंवार, अजय शर्मा, मुकेश गक्खड़, पार्षद पति सुरेंद्र धवन को निगम के वाररूम में वेंडरों के आवेदन पीएम स्वनिधि पोर्टल पर भेजने की प्रक्रिया दिखाई। इससे पूर्व पार्षदों ने नगरायुक्त से मुलाकात कर बताया था कि कुछ वेंडरों ने शिकायत की है कि उनसे रजिस्ट्रेशन के लिए आय प्रमाण पत्र भी मांगा जा रहा है। नगरायुक्त ने कहा कि आय प्रमाण पत्र की कोई आवश्यकता नहीं है ये केवल दुश्प्रचार हैं। नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह ने वेंडरों से कहा कि वे किसी के बहकावे में न आये और न लोन लेने के किसी को पैसा दें। उन्होंने कहा कि वेंडर का निगम में रजिस्ट्रेशन हो और उसका बैंक खाता आधार से लिक हो तथा उनका मोबाइल नंबर, आधार व बैंक खाते में वहीं होना चाहिए जो उन्होंने रजिस्ट्रेशन कराते समय लिखा है।

---

स्वनिधि योजना से होंगे लाभांवित

सहारनपुर: केंद्र सरकार की पीएम स्वनिधि योजना में रेहड़ी-पटरी वाले बिना किसी देरी के अपना काम-धंधा फिर से शुरू कर सकेंगे, इस विशेष क्रेडिट स्कीम के तहत 24 मार्च, 2020 तक या उससे पहले वेंडिग करने वाले स्ट्रीट वेंडर्स 10 ह•ार रुपये तक का लोन ले सकते हैं। लोन को रेहड़ी-पटरीवाले एक साल के भीतर किश्त में लौटा सकते हैं। लोन को समय पर चुकाने वाले स्ट्रीट वेंडर्स को सात प्रतिशत का वार्षिक ब्याज सब्सिडी के तौर पर उनके एकाउंट में सरकार की ओर से ट्रांसफर किया जाएगा। बड़ी बात ये है कि लोन लेने के लिए इसमें किसी गारंटी की जरुरत नहीं है। कई पार्षदों ने किया विरोध

पार्षद संजय गर्ग, प्रदीप पंवार, पुनीत चौहान, यशपाल पुंडीर, अजय शर्मा व सुरेंद्र धवन ने रोटरी भवन पहुंचे। यहां निगम के अलावा डूडा द्वारा भी आवेदन कराए जा रहे थे। निर्धारित फीस से ज्यादा पैसे लिए जाने पर पार्षद बिफर गए। वेंडरों को आवेदन की रसीद व सर्टीफिकेट भी नही दी जा रही थी। पार्षदों ने विरोध करते हुए डूडा को प्रक्रिया से अलग करने की मांग की। उधर वेंडरों का कहना था कि उन्हें लगातार एक विडों से दूसरी विडों पर जाने के लिए मजबूर किया जा रहा है। भीषण गर्मी में वे परेशान हो चुके है। अधिकारियों को ऐसी व्यवस्था बनानी चाहिए कि एक व्यक्ति का काम एक ही विडों पर पूरा हो जाए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.