हड़ताल पर कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी केंद्रों में लटके ताले

विकास भवन में दिया धरना मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

JagranFri, 03 Dec 2021 12:01 AM (IST)
हड़ताल पर कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी केंद्रों में लटके ताले

रायबरेली : शासन की ओर से मांगें पूरी न किए जाने से खफा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता गुरुवार को हड़ताल पर चली गईं। विकास भवन में धरना देकर प्रदर्शन किया। दावा है कि नगर से लेकर ग्रामीणअंचल तक सभी आंगनबाड़ी सेंटरों में ताले लटकते रहे। प्राथमिक शिक्षा पाने वाले लगभग 50 हजार बच्चों को वापस जाना पड़ा। पोषाहार वितरण व अन्य कार्य भी प्रभावित रहे।

आंगनबाड़ी कर्मचारी व सहायिका एसोसिएशन की अगुवाई में यह विरोध-प्रदर्शन चला। इसी के आह्वान पर कार्यकर्ता विकास भवन धरने में शामिल होने पहुंचीं। जिले में आंगनबाड़ी केंद्रों की संख्या 2233 है। कार्यकर्ता और सहायिकाओं को मिलाकर 4466 महिलाएं इनसे जुड़ी हैं। इसके सापेक्ष धरने में आए कार्यकर्ताओं की संख्या सीमित रही। संगठन की अध्यक्ष लीना पांडेय ने दावा किया कि हड़ताल के कारण जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में ताले लटक रहे हैं। पोषाहार वितरण और बच्चों की पढ़ाई से लेकर कार्यकर्ताओं द्वारा किए जाने वाले सारे काम ठप हैं। पहला दिन था, इस नाते धरने में महिलाओं की संख्या कम रही। आगे यह और भी बढ़ेगी। मांगें पूरी होने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। सालसा सिंह, हेमलता साहू, सुनीता त्रिपाठी, शर्मिला पाल, संगीता मौर्या, ममता, बीना सिंह, प्रियंका सिंह, स्नेहा सिंह शामिल रहीं।

इन मांगों को लेकर चल रहा है आंदोलन

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी एवं सहायिकाओं की सेवा नियमावती बनाने, राज्य कर्मचारी का दर्जा मिलने तक कार्यकर्ताओं को 18 हजार और सहायिकाओं को नौ हजार रुपये मानदेय देने की मांग की जा रही है। 10 वर्ष का कार्यकाल पूरा करने पर योग्यतानुसार मुख्य सेविका पद पर पदोन्नति, 62 वर्ष की आयु पार कर चुकीं कार्यकर्ताओं को पेंशन व ग्रेच्युटी देने समेत अन्य मांगें भी उठाई जा रही हैं।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की ओर से कार्य बहिष्कार का नोटिस दिया गया था। हड़ताल के कारण कितने केंद्र बंद रहे और कितने चले, यह बता पाना मुश्किल है। इसकी रिपोर्ट मंगाई जाएगी। इसके बाद ही कुछ कहा जा सकेगा।

शरद त्रिपाठी

डीपीओ, रायबरेली

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.