स्मृति ने सुनी जन प्रतिनिधियों की बात, मातहतों को दिए निर्देश

रायबरेली जिला विकास समन्वय एवं अनुश्रवण समिति की बैठक शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित

JagranSun, 28 Nov 2021 12:20 AM (IST)
स्मृति ने सुनी जन प्रतिनिधियों की बात, मातहतों को दिए निर्देश

रायबरेली : जिला विकास समन्वय एवं अनुश्रवण समिति की बैठक शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित बचत भवन में हुई। इसमें विधायक, ब्लाक प्रमुख, नगर निकायों के अध्यक्ष व विभिन्न विभागों के आलाधिकारी मौजूद रहे। अध्यक्षता कर रहीं अमेठी सांसद व केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने 43 बिदुओं पर विकास कार्यो की समीक्षा की। जनप्रतिनिधियों की बात सुनी और मातहतों को दिशा-निर्देश दिए।

बैठक में मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम, स्वच्छ भारत मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम, प्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना, मध्यान्ह भोजन समेत अन्य केंद्रीय योजनाओं की समीक्षा हुई। करीब तीन घंटे तक चली बैठक में केंद्रीय मंत्री ने हर बिदु पर विस्तार से चर्चा की। विधायकों, प्रमुखों व अन्य जनप्रतिनिधियों की बात सुनी। इसमें कई योजनाओं में मनमानी व धांधली की शिकायतें भी मिलीं, जिनकी जांच कराकर कार्रवाई के निर्देश जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव को दिए। 20 लाख से अधिक लोगों को कोविड-19 से बचाव का टीका लग जाने की केंद्रीय मंत्री ने सराहना की। नहरों की सफाई, जल निकासी की समुचित व्यवस्था और बेसहारा मवेशियों को गोशाला भेजने के निर्देश दिए। मंत्री ने कहा कि शासन को भेजे जाने वाले प्रस्ताव की एक प्रति जनप्रतिनिधियों को भी दी जाए। जिला पंचायत अध्यक्ष रंजना चौधरी, शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी, अवनीश कुमार सिंह, विधायक बछरावां रामनरेश रावत, पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार, मुख्य विकास अधिकारी प्रभाश कुमार आदि मौजूद रहे। ..और जब एमएलसी ने भाई के साथ छोड़ दी कुर्सी

बैठक में सड़कों की बदहाली व निर्माण कार्यो में मनमानी पर चर्चा शुरू होते ही एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह और उनके भाई हरचंदपुर विधायक राकेश प्रताप सिंह अचानक उठे और अपनी कुर्सी छोड़कर पीछे वीवीआइपी के लिए बने कक्ष में चले गए। करीब 20 मिनट बाद दोनों नेता वापस लौटे और अपनी कुर्सियों पर बैठ गए। विधायक प्रतिनिधि किए गए आउट

हाल ही में भाजपा का दामन थामने वाली सदर विधायक अदिति सिंह बैठक में नहीं पहुंची। उन्होंने अपनी जगह पर प्रतिनिधि को भेजा था। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यह बात बैठक में मौजूद कुछ लोगों को रास न आई। इस बैठक में किसी जनप्रतिनिधि का प्रतिनिधि भाग नहीं ले सकता, यह कहकर विधायक प्रतिनिधि को बाहर भेज दिया गया। यह बात अलग रही कि सत्तादल के कुछ ब्लाक प्रमुखों के प्रतिनिधि पूरी बैठक में मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.