ऑन लाइन शिक्षा

ऑन लाइन शिक्षा
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 12:53 AM (IST) Author: Jagran

सरकार का बेहतर कदम, सबको मिला लाभ इस बार शैक्षिक सत्र की शुरुआत एक अप्रैल से होनी थी, लेकिन वैश्विक महामारी के चलते विद्यालय में कक्षाओं का संचालन संभव नहीं हो सका। इस विषम परिस्थिति में ऑनलाइन शिक्षा ही एकमात्र विकल्प है। इसके माध्यम से ही शिक्षक और छात्र के बीच की दूरी कम हुई। पठन-पाठन भी प्रभावित नहीं हुआ। हालांकि समाज के सभी वर्गों के छात्रों के पास मोबाइल अथवा अन्य संचार माध्यमों की उपलब्धता नहीं होने के कारण परेशानी भी आई। इसका लाभ कुछ लोगों को नहीं मिल सका। इसके बावजूद सरकार की ओर से टीवी पर शैक्षिक कार्यक्रमों का प्रसारण कराना बेहतर कदम है। छात्र इसका लाभ उठा रहे हैं। कोरोना संक्रमण से बचने और शिक्षा को जारी रखने के मद्देनजर यह अच्छा कदम है। इससे मुश्किल दौर में भी बच्चों की पढ़ाई बाधित नहीं हो सकी।

अनूप पांडेय, प्रधानाचार्य न्यू पब्लिक एकेडमी इंटर कॉलेज भवानीगढ़ विद्यार्थी की बात

ऑनलाइन शिक्षा में वह पढ़ाई नहीं हो पाती है, जो क्लास में बैठकर होती थी। क्लास में शिक्षक सामने होते हैं। प्रतिस्पर्धा का माहौल रहता है, लेकिन ऑनलाइन शिक्षा के कारण ऐसी स्थिति अब नहीं है। दूरसंचार कंपनियों का कमजोर नेटवर्क भी बड़ी समस्या है।

आर्यन वर्मा, कक्षा सात अभिभावक की राय लंबे समय तक ऑनलाइन शिक्षा बहुत बेहतर नहीं है। मोबाइल, कंप्यूटर का अधिक प्रयोग स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी है। हालांकि ऑनलाइन शिक्षा ही ऐसा विकल्प है, जिससे कोरोना के संक्रमण से छात्रों का बचाव हो सकता है।

दिनेश सिंह भदौरिया, शिवगढ़

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.