सदर तहसील में खूब बरसे वोट, दिनभर गहमागहमी

सदर तहसील में खूब बरसे वोट, दिनभर गहमागहमी

स्नातक एमएलसी में 11770 तो शिक्षक में 2724 पड़े मत

Publish Date:Wed, 02 Dec 2020 12:22 AM (IST) Author: Jagran

रायबरेली : स्नातक और शिक्षक एमएलसी चुनाव को लेकर दिनभर बूथों पर गहमागहमी का माहौल रहा। पार्टी के साथ ही निर्दलीय उम्मीदवारों के समर्थक मतदान केंद्रों के आसपास डटे रहे। इस दौरान सबसे अधिक मत सदर तहसील में पड़े। यहां पर मतदाताओं की संख्या भी सबसे ज्यादा रही।

जिले के 21 मतदान केंद्रों पर सुबह आठ बजे से ही लोग पहुंचने लगे। सुबह रफ्तार काफी धीमी रही। वहीं दोपहर बाद तेजी आने लगी। शाम होते हुए फिर से बूथों पर सन्नाटा पसरने लगा। स्नातक एमएलसी के 29933 में से 11770 मत पड़े। इसमें सबसे अधिक सदर तहसील में 9904 में 3326 मत पड़े। इसी तरह शिक्षक एमएलसी में 3991 के सापेक्ष 2724 मत पड़े। सबसे अधिक सदर तहसील में 1580 के सापेक्ष 1021 लोगों ने मतदान में हिस्सा लिया। शिवगढ़ में स्नातक एमएलसी के 1305 मतदाताओं में से 676 तो शिक्षक एमएलसी के 104 में से 83 ने मत डाले। खीरों के खंड विकास अधिकारी कार्यालय में बनाए गए मतदान केंद्र में स्नातक एमएलसी चुनाव के बूथ नंबर 183 में 800 में से 404, बूथ संख्या 183 अ में 749 मतदाताओं में 322 ने मतदान किया।

इनसेट

शिक्षक एमएलसी के विरोध पर कार्रवाई

शिवगढ़ में पोलिग बूथ से 200 मीटर की परिधि के लगे सत्ता पक्ष के स्नातक एमएलसी प्रत्याशी के बस्ते को देखकर शिक्षक एमएलसी प्रत्याशी उमाशंकर चौधरी ने विरोध जताया। इस पर एसडीएम ने तत्काल प्रभाव से बस्ते को हटवाकर निर्धारित सीमा से बाहर कराया।

बेतरतीब वाहनों से लगा जाम

सलोन-ऊंचाहार रोड पर प्रत्याशी समर्थक व मतदाताओ के बेतरतीब वाहनों के खड़े होने से दिन भर सलोन कस्बे में जाम की स्थिति बनी रही। इससे आने-जाने वाले राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सर्वोदय विद्यापीठ इंटर कॉलेज में मतदान के दौरान जाम हटवाने में पुलिस कर्मियों को पसीना छूट गया। पुलिस कर्मी दिन भर वाहनों के स्वामी को बुलाकर पार्किंग में खड़ा करने के उपदेश देते रहे, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.