नौनिहालों की सेहत का ख्याल, कुपोषण पर कड़ा प्रहार

- आंगनबाड़ी केंद्रों में तीन महीने तक चलेगा पोषण संवर्धन की ओर एक कदम अभियान

JagranSat, 19 Jun 2021 11:22 PM (IST)
नौनिहालों की सेहत का ख्याल, कुपोषण पर कड़ा प्रहार

रायबरेली : नौनिहालों को कुपोषण से बचाने के लिए अब अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बच्चों का वजन करेंगी। आयु के अनुसार लंबाई और वजन कम मिलता है तो उसे श्रेणीवार दर्शाया जाएगा। यह अभियान तीन महीने तक चलेगा। इस दौरान शून्य से पांच वर्ष तक के ढाई लाख बच्चों की सेहत परखी जाएगी।

बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से स्वस्थ समाज को लेकर लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत महिलाओं, किशोरियों और नौनिहालों की सेहत का ख्याल रखा जा रहा है। प्रसव से पूर्व और बाद में महिलाओं को पौष्टिक आहार की जानकारी के साथ ही विभाग से अनाज, दूध, दाल और तेल उपलब्ध कराया जा रहा है। स्वयं सहायता समूह के माध्यम से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा वितरण किया जा रहा है। वहीं, अब तीन महीने तक अभियान चलेगा। इसमें गंभीर बच्चों को चिन्हित किया जाएगा। बाद में उन पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

जिले में आंगनबाड़ी केंद्रों पर एक नजर

आंगनबाड़ी केंद्र - 2833

कुल चिन्हित- 321432

चिन्हित महिला - 57787

0-3 वर्ष तक के बच्चे- 142569

3-6 वर्ष तक के बच्चे- 116198

अतिकुपोषित- 4883

अभियान के तहत माहवार तय थीम

जुलाई- मातृ पोषण

अगस्त- जीवन के पहले एक हजार दिन

सितंबर- कुपोषण के चिन्हित बच्चों का उपचार

दो अक्टूबर तक चलेगा संभव अभियान

बाल विकास एवं पुष्टाहार निदेशक की ओर से जारी पत्र में एक जुलाई से दो अक्टूबर तक संभव- पोषण संवर्धन की ओर एक कदम अभियान चलाया जाएगा। प्रारंभिक तौर पर शुरुआत हो चुकी है। इसके तहत 17 से 24 जून तक सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर शून्य से पांच वर्ष तक के बच्चों के लिए वजन सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है।

इनकी सुनें

शासन के निर्देश पर तीन महीने तक अभियान चलाया जाएगा। बच्चों का वजन किया जाएगा। इसी आधार पर सैम, मैम बच्चों को चिन्हित किया जाएगा, जो गंभीर अल्प वजन में आते हैं। इससे बच्चों को कुपोषण से बचाया जा सकेगा।

शरद कुमार त्रिपाठी, जिला कार्यक्रम अधिकारी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.