यहां तो एक्स-रे जांच और दवा सब बाहर से

कुंडा सरकार कहती है कि अस्पतालों में सभी बीमारियों की दवाएं उपलब्ध हैं। सारी जांचें की

JagranWed, 08 Dec 2021 10:15 PM (IST)
यहां तो एक्स-रे जांच और दवा सब बाहर से

कुंडा: सरकार कहती है कि अस्पतालों में सभी बीमारियों की दवाएं उपलब्ध हैं। सारी जांचें की जा रही हैं, जमीनी हकीकत ऐसी नहीं है। जागरण ने अपने अभियान टूटती उम्मीदें के अंतर्गत बुधवार को सबसे पहले कुंडा सीएचसी को देखा। यहां ओमिक्रोन की तैयारी की बात छोड़िए जांच व दवाएं भी समुचित नहीं हैं। मरीजों को बाहर की दवाइयां लिखी जा रही हैं।

गेट से अंदर कदम रखते ही भारी भीड़ गाइडलाइन को रौंदती मिली। टीम आगे बढ़ी तो इलाज कराने आए मरीज दर्द से कहीं अधिक यहां टूट रहीं उम्मीदों से दुखी मिले। पूछाने पर कुंडा के अनुज केशरवानी बताने लगे कि वह गिर पड़े थे। यहां आने पर उन्हें चिकित्सक ने एक्स-रे कराने की सलाह दी। एक्स-रे कराने पहुंचे तो वहां पर प्लेट न होने से एक्स-रे नहीं हो सका। इसके लिए उसे बाहर जाना पड़ा। आगे जाने पर हाथ में पर्चा लिए हुए सीएचसी से बाहर निकल रही स्वामी देवी निवासी भदरी मिलीं। बताया कि वह त्वचा की जांच कराने के लिए आई थी। दवा अंदर नहीं मिली तो चिकित्सक ने बाहर के लिए लिखा है जो लेने जा रही हूं। ऐसे ही मनीष गुप्ता निवासी रहवई ने टीम को देख खुद ही अपना दर्द बताना शुरू कर दिया। कहा कि एक दवा मिली, बाकी सब बाहर से लानी पड़ रही है। रहवई गांव निवासी मो. अर्स ने बताया कि उन्हें जो दवा लिखी गई है, वह नहीं मिली। बाहर से खरीदना पड़ा। इस बारे में सीएचसी प्रभारी डा. राजीव त्रिपाठी का कहना है कि जीवन रक्षक सभी दवाएं उपलब्ध हैं। कुछ दवाएं नहीं है। डिमांड की गई है।

--

दोपहर तक नहीं आए चार चिकित्सक, कटेगा वेतन

फोटो-

संसू, रानीगंज : सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रानीगंज में चिकित्सकों व कर्मियों की मनमानी थमने का नाम नहीं ले रही है। यहां उनके आने-जाने कोई समय नहीं है। दोपहर तक नहीं आते और मरीज बेहाल होते रहते हैं।

बुधवार को दोपहर में सवा 12 बजे तक महिला चिकित्सक की कुर्सी खाली रही। तीन अन्य भी नहीं आए। उनकी प्रतीक्षा में अंकिता, राधिका, मोहिनी, सुमन, अंजू बैठी थीं। वह नहीं आई तो घर लौट गईं। जब यह मामला सीएमओ तक पहुंचा तो उन्होंने मामले की जांच पड़ताल के लिए डिप्टी सीएमओ डा. सीपी शर्मा को सीएचसी भेजा। उनके आने पर दो महिला चिकित्सक के साथ दो और डाक्टर ड्यूटी पर नहीं थे। जांच में आए डिप्टी सीएमओ ने गायब चिकित्सकों को अनुपस्थित करते हुए कार्रवाई की बात कही। उनका एक दिन का वेतन काटा जाएगा। डिप्टी सीएमओ का कहना था कि दो महिला चिकित्सक व दो पुरुष चिकित्सक जो नहीं आए। इसकी रिपोर्ट सीएमओ को देंगे। यहां अव्यवस्था मिली है, जो क्षम्य नहीं है। इस बारे में सीएचसी अधीक्षक डा. रजनीश प्रियदर्शी का कहना है कि न आने वाले चिकित्सकों को कारण बताओ नोटिस दी जाएगी। स्पष्टीकरण मांगा जाएगा।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.