धान क्रय केंद्रों पर अव्यवस्था का बोलबाला

प्रतापगढ़ : जिले में धान क्रय केंद्रों पर अव्यवस्था का बोलबाला है। केंद्रों पर किसानों को पेयजल, बैठने आदि की सुविधाओं का दावा फेल दिख रहा है। केंद्रों पर बोरी की कमी से लेकर तमाम अव्यवस्थाएं देखने को मिल रही हैं। हालांकि इस संबंध में जागरण में खबर छपने के बाद महकमा सक्रिय हुआ और केंद्रों पर अव्यवस्थाओं को दूर किया जा रहा है। अब तक जिले में कुल 571 मीट्रिक टन धान की खरीद हो चुकी है।

जिले में धान खरीद करने को 50 क्रय केंद्र बनाए गए हैं। इसमें विपणन के 17, पीसीएफ के 26, कर्मचारी कल्याण निगम के चार, यूपी एग्रो के तीन केंद्र शामिल हैं। इस बार शासन ने जिले में धान खरीद करने के लिए 59 हजार 600 एमटी का लक्ष्य रखा है। एक नवंबर से शुरू हुई धान की खरीद अब जोर पकड़ने लगी है। यूपी एग्रो व कर्मचारी कल्याण निगम के केंद्रों पर अधिक अव्यवस्था देखने को मिल रही है। यूपी एग्रो के केंद्र माझिल गांव, दमदम पर पैसे व बोरे की व्यवस्था अभी तक नहीं हो पाई है। कर्मचारी कल्याण निगम के केंद्र सुजहा पर भी इसी तरह की समस्याएं हैं। पीसीएफ के केंद्र राजापुर, सांडा हर्षपुर व फेनहा पर भी बोरे, पैसे की दिक्कत आ रही है। हालांकि बैंक की लापरवाही से यह दिक्कत आ रही है।

लालगंज क्षेत्र में नहीं शुरू हो सकी खरीद : तहसील लालगंज क्षेत्र में धान की खरीद करने के लिए कुल नौ क्रय केंद्र बनाए गए हैं। इसमें विपणन के चार, साधन सहकारी समिति के चार और यूपी एग्रो का एक केंद्र शामिल है। ब्लाक लालगंज व संग्रामगढ़ में एक-एक, लक्ष्मणपुर में दो व सांगीपुर में पांच क्रय केंद्र बनाए गए हैं। तहसील लालगंज में धान खरीद करने का कुल लक्ष्य 12 हजार सात सौ एमटी रखा गया है। अभी तक सांगीपुर में 26, लालगंज में सात, लक्ष्मणपुर में दो, संग्रामगढ़ में शून्य मिलाकर कुल 35 किसानों ने ही एसडीएम पोर्टल से पंजीकरण फारवर्ड कराया है। सभी नौ केंद्रों पर कुल मिलाकर 1362 कुंतल धान की खरीद ही हो सकी है। लालगंज क्रय केंद्र पर अभी धान खरीद शुरू नहीं सकी है। केंद्र प्रभारी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि दो हजार एमटी की खरीद का लक्ष्य है। बोरी उपलब्ध है। किसानों के अन्य सुविधाएं भी बनाई गई हैं। क्षेत्र के बसुआपुर केंद्र प्रभारी संजय यादव ने 70 कुंतल, आहरबीहर प्रभारी संदीप सिंह ने 184 कुंतल, दलापटी में 300 कुंतल, नवहा में 700 कुंतल, लक्ष्मणपुर में प्रभारी गीतांशु कुमार ने अभी तक 108 कुंतल की खरीद होने की बात बताई। वहीं धान की बिक्री में किसान ऑनलाइन सत्यापन को लेकर परेशान नजर आ रहे हैं। किसान राम नरेश मौर्या, अशोक सिंह, ननकऊ वर्मा, जगतपाल वर्मा, नन्हेलाल प्रजापति आदि किसानों का कहना है कि ऑनलाइन फीडिग के बिना क्रय केंद्र पर धान की बिक्री नहीं हो पा रही है। विपणन अधिकारी संजय सिंह ने बताया कि क्रय केंद्रों पर किसानों को किसी प्रकार की समस्या न हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.