अप्रैल से बाइपास पर फर्राटा भरेंगे वाहन

अप्रैल से बाइपास पर फर्राटा भरेंगे वाहन
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 11:09 PM (IST) Author: Jagran

पीलीभीत,जेएनएन : पूरनपुर रोड को सीधे टनकपुर मार्ग से जोड़ने के लिए 63.82 करोड़ की लागत से बन रहा 11.2 किमी के बाइपास का निर्माण अब अंतिम चरण में पहुंच गया है। अप्रैल से इस बाइपास पर वाहन फर्राटा भरने लगेंगे। नया बाइपास चालू होने से शहरवासियों को टनकपुर रोड पर लगने वाले जाम से भी मुक्ति मिल जाएगी।

शहर के बीच से होकर गुजर रही टनकपुर रोड पर शहरी सीमा में अनेक अस्पताल, स्कूल-कॉलेज, बैंक, विकास खंड कार्यालय, कलक्ट्रेट और जजी जैसे महत्वपूर्ण संस्थान आते हैं। पहले इस इलाके में आबादी नहीं थी। सिर्फ ब्लॉक, कलक्ट्रेट और जजी रहे हैं। वाहनों की भी इतनी संख्या नहीं थी। यह रोड आबादी से अलग पड़ती थी, इसलिए शहर वासियों को किसी तरह की दिक्कत नहीं होती थी लेकिन आबादी बढ़ने के साथ ही इस रोड पर भारी वाहनों का यातायात भी बढ़ता गया। लगभग रोज की इस रोड पर गौहनिया चौराहा, छतरी चौराहा पर जाम लगने लगा। जाम में स्कूली बच्चों से लेकर मरीज को ले जाने वाली एंबुलेंस फंसने लगीं। तब बाईपास की आवश्यकता महसूस की गई। करीब पांच साल पहे समाजवादी पार्टी के शासन के दौरान पूरनपुर रोड से वनकटी होते हुए टनकपुर मार्ग पर पिपरिया अगरू के आगे मिलाने के लिए बाइपास स्वीकृत हुआ। इसके लिए जमीन अधिगृहण की लंबी प्रक्रिया चली। इस बाइपास के बीच दो स्थानों पर रेलवे लाइन आ रही है। ऐसे में दोनों क्रासिगों पर ओवरब्रिज का भी निर्माण स्वीकृत हो गया। पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री ने जिले की समीक्षा के दौरान बाइपास निर्माण में तेजी लाने के निर्देश दिए थे। डीएम भी मौके पर जाकर निरीक्षण कर चुके हैं। दोनों ओवरब्रिज और बाइपास रोड का निर्माण मार्च के अंत तक पूरा हो जाएगा। अप्रैल से बाइपास पर वाहन दौड़ने लगेंगे। सभी तरह के भारी वाहनों को बाईपास से निकालने की व्यवस्था कराई जाएगी, जिससे शहर से होकर गुजर रहे टनकपुर रोड पर यातायात का दबाव काफी कम हो जाएगा। ऐसे में शहरवासियों को जाम की समस्या से भी मुक्ति मिल जाएगी। इनसेट

कुल 11.2 किमी लंबी बाइपास की सड़क का अब सिर्फ दो सौ मीटर का टुकड़ा बनना शेष रह गया है। ओवरब्रिज बनाने का कार्य सेतु निगम कर रहा है। मार्च के अंत तक पूर्ण रूप से बनकर तैयार हो जाएंगे। 31 मार्च तक बाइपास का पूरी तरह निर्माण हो जाने का समय दिया गया है। इसी अवधि हर हाल में कार्य पूर्ण करा लिया जाएगा।

-हर स्वरूप, अधिशासी अभियंता सार्वजनिक निर्माण विभाग

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.