सैंपलिग में ढिलाई पर महानिदेशक ने चेताया

पीलीभीतजेएनएन कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन की आहट होते ही देश भर में अलर्ट जारी कर दिया गया है। प्रदेश स्तर से लगातार गाइडलाइन भेजकर सैंपलिग व टीकाकरण की गति बढ़ाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। इसके विपरीत जनपद के स्वास्थ्य महकमे पर शासन के आदेशों का भी असर नहीं होता है। पिछले कई माह से जनपद कोरोना सैंपलिग में पीछे चल रहा है। पिछले दिनों की रिपोर्ट के आधार पर महानिदेशक ने चेतावनी जारी की है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओं के महानिदेशक डा. वेद व्रत सिंह ने सीएमओ को भेजे पत्र में कहा कि महानिदेशालय स्तर से कई बार कम सैंपलिग में सुधार कराकर शत-प्रतिशत सैंपलिग कराने के आदेश दिए गए।

JagranWed, 01 Dec 2021 11:22 PM (IST)
सैंपलिग में ढिलाई पर महानिदेशक ने चेताया

पीलीभीत,जेएनएन : कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन की आहट होते ही देश भर में अलर्ट जारी कर दिया गया है। प्रदेश स्तर से लगातार गाइडलाइन भेजकर सैंपलिग व टीकाकरण की गति बढ़ाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। इसके विपरीत जनपद के स्वास्थ्य महकमे पर शासन के आदेशों का भी असर नहीं होता है। पिछले कई माह से जनपद कोरोना सैंपलिग में पीछे चल रहा है। पिछले दिनों की रिपोर्ट के आधार पर महानिदेशक ने चेतावनी जारी की है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओं के महानिदेशक डा. वेद व्रत सिंह ने सीएमओ को भेजे पत्र में कहा कि महानिदेशालय स्तर से कई बार कम सैंपलिग में सुधार कराकर शत-प्रतिशत सैंपलिग कराने के आदेश दिए गए। इसके बाद भी सैंपलिग का लक्ष्य प्राप्त नहीं किया जा रहा है। महानिदेशक के मुताबिक आरटी-पीसीआर और एंटीजन सैंपलिग का लक्ष्य प्राप्त न होना अति गंभीर विषय और कोविड-19 उपचार के संबंध में सीएमओ की लापरवाही परिलक्षित करता है। महानिदेशक ने लक्ष्य के सापेक्ष एंटीजन व आरटी-पीसीआर जांच कराने के आदेश दिए हैं। लापरवाही होने पर शासन स्तर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

दैनिक जागरण ने 30 नवंबर के अंक में कोरोना सैंपलिग लक्ष्य के सापेक्ष न होने का मुद्दा प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसके साथ ही सैंपलिग का रिकार्ड व्यवस्थित न होने की बात भी प्रकाशित की थी। मंगलवार को महानिदेशालय से सैंपलिग की जनपद वार स्थिति रिपोर्ट जारी की गई तो जागरण की खबर पर मुहर लग गई। सैंपलिग के मामले में जनपद का प्रदेश में 42वां स्थान है। जनपद में लक्ष्य के सापेक्ष हो रही सैंपलिग में 57.58 फीसद का औसत अंतर पाया गया है। जनपद में केवल 42.42 फीसद सैंपलिग हो पा रही है जिसको लेकर महानिदेशक ने नाराजगी जाहिर की है। आंकड़ों में स्थिति--

कुल दैनिक लक्ष्य- 2600

आरटी-पीसीआर- 1800

एंटीजन- 800 औसत कुल सैंपलिग- 1103

औसत आरटी-पीसीआर सैंपलिग- 408

औसत एंटीजन सैंपलिग- 695 औसत सैंपलिग प्रतिशत- 42.42

औसत अंतर- 57.58 (ऋणात्मक)

(26 से 28 नवंबर तक की रिपोर्ट के आधार पर)

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.