खीरी ब्रांच नहर में बड़े पैमाने पर हो रहा रेत का खनन

खीरी ब्रांच नहर में बड़े पैमाने पर हो रहा रेत का खनन

टाइगर रिजर्व से निकली लखीमपुर खीरी ब्रांच नहर में जमकर रेत खनन किया जा रहा है। इस ओर वन विभाग के अलावा पुलिस विभाग के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। इससे नहर को खतरा पैदा हो रहा है।

Publish Date:Fri, 04 Dec 2020 11:48 PM (IST) Author: Jagran

पीलीभीत,जेएनएन : टाइगर रिजर्व से निकली लखीमपुर खीरी ब्रांच नहर में जमकर रेत खनन किया जा रहा है। इस ओर वन विभाग के अलावा पुलिस विभाग के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। इससे नहर को खतरा पैदा हो रहा है।

बाइफरकेशन से निकली लखीमपुर खीरी ब्रांच नहर वर्तमान में सूखी पड़ी है। इस पर रेत तस्करों ने अपनी नजरें तरेर ली हैं। रात होते ही इस नहर से बड़े पैमाने पर डनलप और ट्रैक्टर ट्राली आदि वाहनों से रेत का खनन शुरू कर दिया जाता है। सुबह तड़के तक खनन होता रहता है। नहर की पटरियां वाहनों के निकलने से क्षतिग्रस्त होने की आशंका हो गई है। बताया जा रहा है कि इस मामले की स्थानीय वन विभाग के अधिकारियों को जानकारी है लेकिन कोई भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसके चलते प्रतिबंधित एरिया से बेरोक टोक नहर से खनन किया जा रहा है। नहर में दूर दूर तक रेत की निकासी के गड्ढे दिखाई दे रहे हैं। रात के समय खनन होने से वन्यजीवों को भी खतरा बढ़ सकता है। हरीपुर रेंज के वन क्षेत्राधिकारी मोहम्मद साजिद ने बताया कि एक धार्मिक स्थल के लिए रेत निकाली गई है। अन्य रेत खनन नहीं किया जा रहा है। अगर चोरी चुपके से रेत निकाली जा रही है तो मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। पूरनपुर तहसील में सबसे अधिक नहरों और खेतों से रेत व मिट्टंी का खनन किया जा रहा है। माफिया सुबह ही जेसीबी व ट्रैक्टर ट्राली लेकर खेत में पहुंच जाते हैं। रात के अंधेरे में खनन किया जाता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.