मुख्यमंत्री जी, यहां भी सड़क पर लग रहे हिचकोले

संवाद सहयोगी,बीसलपुर (पीलीभीत) : मुख्यमंत्री जी, सड़क पर बने गड्ढों से जब आपको हिचकोले लगें तो अफसरों को कसा परंतु यहां भी हम लोगों को गजरौला मार्ग पर गड्ढों के कारण हिचकोले खाने पड़ रहे हैं,लेकिन किससे कहें।

नगर में रामलीला मेला मैदान से होकर जाने वाला गजरौला मार्ग पिछले कई वर्षों से बदहाल पड़ा हुआ है। ग्राम हाफिज नगर बन्नाही के मार्ग की हालत काफी दयनीय बनी हुई है। वन क्षेत्राधिकारी कार्यालय के सामने कुछ दूरी पर मार्ग पर बड़े बड़े गढ्डे हो गए हैं। यहां से प्रतिदिन बड़ी संख्या में दुपहिया व चौपहिया वाहन आते जाते हैं। रामलीला चलने के कारण मार्ग पर आने जाने वालों की भीड़ इन दिनों ज्यादा रहती है। इस मार्ग से ग्राम गजरौला, भसूड़ा, चंदपुर, कनिगवां, बरखेड़ा, पुरैनियां, अमरा कासिमपुर समेत एक दर्जन से अधिक ग्रामों के लोग इसी मार्ग से होकर ही आते जाते हैं। मार्ग की हालत दयनीय होने से लोगों को काफी दिक्कत हो रही है। सबसे अधिक परेशानी इन गांवों से नगर के विद्यालयों में पढ़ने आने वाले विद्यार्थियों को हो रही है। रात्रि में अक्सर दोपहिया वाहन चालक गड्ढों में फंसकर हादसे के शिकार हो रहे हैं। कई बार ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों से मामले की शिकायत कर चुके हैं। इसके बाद भी अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। जनप्रतिनिधि भी सड़क की बदहाली की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

फोटो18बीएसएलपी4

मार्ग पर बने गड्ढे समतल कराने को कई बार विभाग के अधिकारियों को शिकायत कर चुके हैं। इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। मार्ग पर आने जाने में काफी दिक्कत हो रही है।

मुनीश कुमार,ग्राम अमरा कासिमपुर

फोटो18बीएसएलपी5

अपने गांव से नगर के विद्यालय में प्रतिदिन साइकिल से पढ़ने के लिए आता हूं। मार्ग पर बने गड्ढों से काफी परेशानी हो रही है। अधिकारियों को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

अखिलेश कुमार,छात्र ग्राम अमरा कासिमपुर

फोटो18बीएसएलपी6

रामलीला गजरौला मार्ग पर ई रिक्शा चलाकर परिवार का भरणपोषण कर रहा हूं। मार्ग पर गड्ढे होने के कारण बहुत परेशानी हो रही है। कई बार ई रिक्शा सड़क पर पलटते बच चुका है।

सौरभ ,ई-रिक्शा चालक बीसलपुर

फोटो18बीएसएलपी7

दूध बिक्री कर परिवार का भरण पोषण करता हूं। मार्ग पर प्रतिदिन साइकिल से दूध बिक्री करने आता हूं। गड्ढों के कारण बहुत परेशानी हो रही है।

लालता प्रसाद,ग्राम हाफिज नगर बन्नाही

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.