दीवाली से पहले शुरू होगा डिस्टलरी का निर्माण

पीलीभीतजेएनएन दीपावली पर्व से पहले जनपदवासियों को बड़े उद्योग के तौर पर अनाज आधारित डिस्टलरी के निर्माण शुरू होने की सौगात मिल सकती है। इस दिशा में जिला प्रशासन औपचारिकताओं को पूरा कराने के लिए तेजी से काम कर रहा है। वहीं सदर विधायक संजय सिंह गंगवार भी लखनऊ में आला अफसरों से संपर्क बनाए हुए हैं। खमीर फैक्ट्री के साथ ही डिस्टलरी का शिलान्यास भी होने के आसार हैं।

JagranThu, 16 Sep 2021 11:42 PM (IST)
दीवाली से पहले शुरू होगा डिस्टलरी का निर्माण

पीलीभीत,जेएनएन: दीपावली पर्व से पहले जनपदवासियों को बड़े उद्योग के तौर पर अनाज आधारित डिस्टलरी के निर्माण शुरू होने की सौगात मिल सकती है। इस दिशा में जिला प्रशासन औपचारिकताओं को पूरा कराने के लिए तेजी से काम कर रहा है। वहीं सदर विधायक संजय सिंह गंगवार भी लखनऊ में आला अफसरों से संपर्क बनाए हुए हैं। खमीर फैक्ट्री के साथ ही डिस्टलरी का शिलान्यास भी होने के आसार हैं।

सदर विधायक संजय सिंह गंगवार जनपद में बड़े उद्योगों की स्थापना कर स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया कराने की घोषणा समय-समय पर करते रहे हैं। वह इस सिलसिले में कई बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास कार्यों को देख रहे वरिष्ठ आइएएस नवनीत सहगल से मुलाकात कर चुके हैं, जिसके परिणामस्वरूप शासन की ओर से जनपद में ब्रिटिश कंपनी द्वारा खमीर फैक्ट्री लगाने को मंजूरी दी जा चुकी है। इसके अलावा अनाज आधारित राज्य की सबसे बड़ी डिस्टलरी की स्थापना किए जाने को भी स्वीकृति दी गई है। खास बात यह है कि दोनों बड़े उद्योग सदर विधान सभा क्षेत्र में ही स्थापित किए जाएंगे। जिसके तहत खमीर फैक्ट्री की स्थापना अमरिया तहसील क्षेत्र के भरापचपेड़ा में स्थित उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास प्राधिकरण की भूमि पर की जायेगी। डिस्टलरी का निर्माण भी अमरिया तहसील क्षेत्र के गांव कटैया पंडरी स्थित भूमि पर किया जाएगा। खमीर फैक्ट्री के लिए प्रस्तावित भूमि को नब्बे साल के लिए लीज पर देने संबंधी रजिस्ट्री भी कुछ दिन पहले हो चुकी है, जबकि डिस्टलरी के लिए प्रस्तावित भूमि उपलब्ध कराने संबंधी औपचारिकताएं अंतिम चरण में हैं।

1000 से ज्यादा लोगों को मिलेगा रोजगार

मां शीतला डिस्टलरी बेवरीज कंपनी के प्रबंध निदेशक नवनीत अग्रवाल ने चार अगस्त को इस सिलसिले में जिलाधिकारी पुलकित खरे से मुलाकात कर स्थापना प्रक्रिया की बाबत अवगत कराया था। बताया गया कि कंपनी की ओर से डिस्टलरी स्थापना संबंधी लाइसेंस की प्रक्रिया पूरी करा ली गई है। तकरीबन छह करोड़ रुपये की लागत से डिस्टलरी का निर्माण किया जाएगा। कंपनी की ओर से प्राज टैक्नोलाजी पर आधारित फैक्ट्री में अनाज से ऐथनाल का उत्पादन किया जाएगा। साथ ही पशुओं के लिए पशु आहार का उत्पादन भी किया जाएगा। फैक्ट्री में रोजाना तीन लाख लीटर ऐथनाल का उत्पादन किया जाएगा। जिससे अंग्रेजी और देशी शराब भी बनाई जाएगी। कंपनी की ओर से अक्टूबर में निर्माण शुरू करने की तैयारी की जा रही है। दीपावली से पहले खमीर फैक्ट्री तथा अनाज आधारित डिस्टलरी का शिलान्यास कराने का प्रयास किया जा रहा है, जिसके लिए कंपनी के लोगों से लगातार संपर्क बना हुआ है। डिस्टलरी संबंधी कुछ औपचारिकताओं को जल्द पूरा कराने के लिए कहा गया है। दोनों उद्योगों से जिले के लोगों को रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध होंगे।

- पुलकित खरे, डीएम जनपद के युवाओं को रोजगार के बेहतर अवसर स्थानीय स्तर पर उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कई बार आग्रह किया गया था, जिसके फलस्वरूप जिले को दो बड़े उद्योगों की सौगात मुख्यमंत्री ने दी है। दोनों उद्योगों से जनपद का नाम औद्योगिक विकास के मानचित्र पर उभरेगा।

- संजय सिंह गंगवार, सदर विधायक

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.