टीईटी पेपर लीक करने वाला प्रिटिग प्रेस का मालिक गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) 2021 का प

JagranTue, 30 Nov 2021 07:53 PM (IST)
टीईटी पेपर लीक करने वाला प्रिटिग प्रेस का मालिक गिरफ्तार

जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा :

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) 2021 का प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में एसटीएफ नोएडा यूनिट ने बड़ी कार्रवाई की है। दिल्ली में जिस प्रिटिग प्रेस पर प्रश्न पत्र छपे थे उसके मालिक राय अनूप प्रसाद को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। आरोपित व कई अन्य के खिलाफ ग्रेटर नोएडा की सूरजपुर कोतवाली में गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

एडिशनल एसपी एसटीएफ राजकुमार मिश्रा ने बताया कि दिल्ली में संचालित प्रिटिग प्रेस के मालिक राय अनूप प्रसाद को गिरफ्तार किया गया है। मामले में कोतवाली सूरजपुर में एसटीएफ के द्वारा विभिन्न प्रिटिग प्रेस के मालिकों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करवाया गया है। दो पालियों में आयोजित होने वाली टीईटी परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक करने के लिए कई अलग-अलग जिले के लोगों से आरोपित संपर्क में था। परीक्षा वाले दिन प्रश्न पत्र इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया था।

---

गोरखपुर से तय किया दिल्ली तक का सफर

प्रिटिग प्रेस के मालिक राय अनूप प्रसाद मूलरूप से गोरखपुर का रहने वाला है। उसकी दिल्ली के ओखला में प्रिटिग प्रेस है। वर्तमान में वह दिल्ली में ही रह रहा था। जांच में पता चला है कि प्रिटिग प्रेस में प्रश्न पत्र छपने के दौरान गोपनीयता नहीं बरती गई। मामले की जानकारी वाट्सग्रुप से एक दूसरे तक पहुंचाई गई।

---

अब तक ये आरोपित हो चुके हैं गिरफ्तारी

प्रश्न पत्र लीक करवाने में शामिल आनंद गुप्ता, रंजीत कुमार सिंह, अमर सिंह, अंकित कुमार, धर्मदास, अनूप, संतोष तिवारी, प्रबल सिंह चौहान, अजीत वर्मा, रोहित, पप्पू आर्य, अविनाश, सौरव सिंह, बृजेश कुमार, त्रिवेंद्र सिंह, वजेंद्र कनौजिया, ललित कुमार, संजय कुमार, बिट्टू कुमार और सोनू कुमार को उत्तर प्रदेश के विभिन्न जगहों से गिरफ्तार किया गया है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.