नोएडा के मेट्रो अस्पताल में भर्ती रॉबर्ट वाड्रा को किया गया डिस्चार्ज, डॉक्टर-नर्स को बोला Thanks

नोएडा [मोहम्मद बिलाल]। दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर-11 स्थित मेट्रो अस्पताल में भर्ती बिजनेसमैन रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) को मंगलवार शाम को छुट्टी मिल गई। उन्हें सोमवार सुबह करीब 11:30 बजे जोड़ो में दर्द की शिकायत पर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था। ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉ. पुनीत दिलावरी की टीम उनका इलाज कर रही थी। रॉबर्ट वाड्रा का इलाज कर रहे डॉक्टर इससे पहले फोर्टिस और मैक्स अस्पताल में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। मंगलवार दोपहर करीब 1 बजे मेट्रो अस्पताल प्रबंधन की ओर से मेडिकल बुलेटिन किया गया।

डॉ. पुनीत दिलावरी ने बताया कि रॉबर्ट वाड्रा को घुटने और जोड़ो की नस में आई खिंचाव के चलते अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। एमआरआइ सहित कई जांचों के बाद ही उन्हें भर्ती होने की सलाह दी गई। उन्हें बेड रेस्ट के साथ ही थोड़े दिन जिम नहीं जाने की सलाह दी गई है।

रॉबर्ट वाड्रा अपनी फिटनेस के चलते भी सुर्खियों में रहते हैं। जिम जाने के साथ ही वह प्रतिदिन सुबह दौड़ को भी जाते हैं। जिम जाने के चलते मांसपेशियों में हुए खिंचाव के चलते उन्हें बैक पेन की समस्या हुई है, जिसके बाद ही वह अचानक से रुटीन चेकअप के लिए मेट्रो अस्पताल पहुंचे। यहां डॉक्टर ने उनकी जांच कराई।

एमआरआF जांच रिपोर्ट आने के बाद उन्हें भर्ती होने की सलाह दी गई। जिसके बाद ही वह अस्पताल में भर्ती हो गए। अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान उनसे मिलने के लिए अस्पताल के बाहर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लगा है।

मेट्रो में इलाज के लिए पहुंचते है कई वीआईपी

गौरतलब है की इस पहले भी मेट्रो अस्पताल में कई वीआईपी इलाज के लिए पहुंचते रहते हैं। इनमे राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्रा का भी नाम शामिल है।

इससे पहले मेट्रो अस्पताल में भर्ती बिजनेसमैन रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) से मंगलवार दोपहर मुलाकात करने के लिए उनकी मां मोरिन भी पहुंचीं। दोपहर 12 बजे के आसपास अस्पताल पहुंची उनकी मां ने अपने बेटे हालचाल लिया। इस दौरान उनके साथ एक-दो करीबी लोग ही थे। बताया जा रहा है कि दामाद से मिलने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Interim Congress President Sonia Gandhi)  भी पहुंच सकती हैं और राहुल गांधी भी आ सकते हैं। 

इससे पहले मंगलवार सुबह 7 बजे के आसपास कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी प्रियंका गांधी वाड्रा ( Congress leader Priyanka Gandhi Vadra) अस्पताल से बाहर निकली थीं। वह पूरी रात अपने पति की देखरेख के चलते अस्पताल में ही रुकी थीं और सुबह घर के लिए निकलीं।  

बता दें कि सोमवार सुबह रॉबर्ट वाड्रा अचानक नोए़़डा सेक्टर- 11 स्थित मेट्रो अस्पताल में अपने स्वास्थ्य की नियमित जांच कराने के लिए पहुंचे। सूत्रों ने बताया कि रॉबर्ट वाड्रा नियमित स्वास्थ्य जांच जोड़ो में दर्द की समस्या को लेकर अस्पताल आए थे। इस दौरान डॉक्टरों ने उन्हें कई तरह के मेडिकल टेस्ट कराने की सलाह दी। करीब एक घंटे बाद जांच रिपोर्ट आने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें भर्ती होने की सलाह दी, जिसके बाद से वह अस्पताल में भर्ती हो गए हैं। इसके बाद से वहां पर उनका इलाज चल रहा है।

वहीं, इससे पहले सोमवार को प्रियंका के आने की सूचने के चलते अस्पताल में आम लोगों की आवाजाही को बंद कर दिया गया था। उनके अस्पताल में रहने के दौरान जांच व इलाज के लिए पहुंचे लोगों को बाद में आने की सलाह दी गई थी।

बताया जा रहा है कि रातभर वह रॉबर्ड वाड्रा  के साथ ही रहीं, सुबह वह घर के लिए निकलीं। कहा जा रहा है कि दोपहर बाद वह फिर अस्पताल पति रॉबर्ट से मिलने आ सकती है। 

इस दौरान प्रियंका ने अस्पतालों के डॉक्टरों से उनका हालचाल भी पूछा। रॉबर्ट वाड्रा के अस्पताल में भर्ती रहने की सूचना के बाद से अस्पताल के बाहर मीडिया का जमावड़ा लगा रहा, लेकिन किसी को भी अंदर जाने और उनसे मिलने के लिए अस्पताल के सुरक्षा कर्मियों ने सभी को रोक रखा है। हालांकि अभी कांग्रेस के स्थानीय नेताओं को रॉबर्ट वाड्रा के अस्पताल में भर्ती होने की कोई जानकारी नहीं है। उम्मीद ये जताई जा रही है कि जानकारी होने या मंगलवार को राहुल गांधी के अस्पताल आने की सूचना पर कांग्रेसी अस्पताल पहुंच सकते हैं।

2017 में प्रियंका को हुआ था डेंगू।

गौरतलब है प्रियंका गांधी को अगस्त 2017 में डेंगू का बुखार आया था और वह कुछ दिनों के लिए गंगा राम अस्पताल में भर्ती हुई थीं। जबकि इससे पहले उन्होंने करोल बाग इलाके में स्थित निजी अस्पताल में 2013 में पित्ताशय का ऑपरेशन कराया था।

UP Police के अजब एनकाउंटर की गजब कहानी, पढ़िए- यह हैरान करने वाला मामला

NHAI पर 53 सड़कें क्षतिग्रस्त करने का आरोप, PWD ने मांगे 14 करोड़ रुपये; DM का रुख सख्त

दिल्ली में Poor Category में पहुंच सकता है वायु प्रदूषण, 3 दिन बाद होगा बड़ा बदलाव

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.