NOIDA Coronavirus Alert ! रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाला युवक गिरफ्तार, दिल्ली से निकला कनेक्शन

सूचना के आधार पर पुलिस ने युवक को गिरफ्तार किया है।

दिल्ली से सटे नोएडा सेक्टर-20 कोतवाली पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया है। युवक के पास से 105 रेमडेसिविर के इंजेक्शन बरामद हुआ है। दिल्ली का रहने वाला युवक नोएडा के सेक्टर-168 में किराये के घर पर रहता है।

Jp YadavWed, 21 Apr 2021 12:18 PM (IST)

नोएडा/नई दिल्ली [मोहम्मद बिलाल]। रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वाले युवक को दिल्ली से सटे नोएडा सेक्टर-20 कोतवाली पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया है। रचित घई नाम के इस युवक के पास से 105 रेमडेसिविर के इंजेक्शन बरामद हुआ है। दिल्ली का रहने वाला युवक नोएडा के सेक्टर-168 में किराये के घर पर रहता है। बतयाा जा रहा है कि सूचना के आधार पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है। आरोपित इन इंजेक्शन को जरूरतमंद लोगों को 15 हजार से लेकर 40 हजार रुपये में बेच रहा था। आरोपित युवक के पास से सेंट्रो कार और एक लाख 54 हजार रुपये बरामद किए गए हैं। आरोपित रचित घई दिल्ली के पीतमपुरा सरस्वती विहार का रहने वाला है। वह इस समय नोएडा सेक्टर 168 में रह रहा था।

एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि आरोपित नोएडा में रहकर रेमडेसीविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहा था। आरोपित दवा की खेप दिल्ली और चंडीगढ़ से लेकर आया था। आरोपित की गिरफ्तारी सेक्टर 29 स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल के पास से की गई है। अब तक उसने किन-किन लोगों को इंजेक्शन बेचे हैं और वह दिल्ली व चंडीगढ़ से किन लोगों से इंजेक्शन खरीद कर लाया था, इसकी जानकारी जुटाने का प्रयास किया जा रहा है।

उधर, दिल्ली में भले ही डॉक्टर रेमडेसिविर को कोरोना के इलाज के लिए रामबाण नहीं बता रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद मेडिकल स्टोरों पर इस इंजेक्शन को लेने वालों की लंबी कतारें देखी जा सकती हैं। मरीजों के तीमारदारों का कहना है कि डॉक्टर उन्हें इंजेक्शन लाने के लिए कहते हैं लेकिन घंटों भटकने के बावजूद यह नहीं मिल पा रहा है।

वहीं जिला प्रशासन ने जिन 29 डिस्ट्रीब्यूटरों के नंबर जारी किए हैं उनमें से ज्यादातर के नंबर बंद रहते हैं या फिर उठते ही नहीं हैं। ग्रीन पार्क में इंजेक्शन लेने आए एक युवक ने बताया कि उनकी मां गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। डॉक्टर ने उनसे रेमडेसिविर के चार डोज मंगवाए हैं, लेकिन काफी भटकने के बावजूद यह नहीं मिला। वहीं एक अन्य तीमारदार संजय ने बताया कि उनके भाई की हालत गंभीर है। डॉक्टर ने इंजेक्शन मंगवाए हैं। उन्होंने सूची में दिए गए नंबरों पर कॉल किया, लेकिन वहां से कोई मदद नहीं मिल सकी।

गौरतलब है कि हाल ही में सरकार ने इस इंजेक्शन के दाम भी कम किए हैं। अभी सात कंपनियां यह इंजेक्शन बना रही हैं। अलग-अगल कंपनियों के रेमडेसिविर इंजेक्शन की न्यूनतम कीमत 899 रुपये और अधिकतम 3490 रुपये है। हालांकि, इस स्थिति का फायदा उठाकर कुछ लोग इंजेक्शन की कालाबाजारी भी कर रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.