दिसंबर में आएगी मेडिकल डिवाइस पार्क की भूखंड योजना

जागरण संवाददाता ग्रेटर नोएडा यमुना प्राधिकरण प्रदेश के पहले मेडिकल डिवाइस पार्क की भ

JagranPublish:Mon, 29 Nov 2021 06:17 PM (IST) Updated:Mon, 29 Nov 2021 06:17 PM (IST)
दिसंबर में आएगी मेडिकल डिवाइस पार्क की भूखंड योजना
दिसंबर में आएगी मेडिकल डिवाइस पार्क की भूखंड योजना

जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : यमुना प्राधिकरण प्रदेश के पहले मेडिकल डिवाइस पार्क की भूखंड योजना दिसंबर में निकालने जा रहा है। मेडिकल डिवाइस पार्क की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट संशोधन के साथ दिसंबर के पहले सप्ताह में तैयार हो जाएगा। निवेश आकर्षित करने के लिए प्राधिकरण फार्मा उद्योग से जुड़ी कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ वेबिनार करेगा।

सेक्टर 28 में विकसित होने वाला मेडिकल डिवाइस पार्क साढ़े तीन सौ एकड़ में तीन चरण में विकसित होगा। पहले चरण में 90 एकड़ में भूखंड योजना लाई जाएगी। इसमें स्टार्टअप को भी मौका दिया जाएगा।

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद यमुना प्राधिकरण मेडिकल डिवाइस पार्क योजना को धरातल पर उतारने में जुट गया है। इसके जरिये करीब पंद्रह हजार लोगों को रोजगार मिलने का अनुमान है। यमुना प्राधिकरण ने पहले मेडिकल डिवाइस पार्क की डीपीआर कलाम इंस्टीट्यूट आफ हेल्थ टेक्नोलाजी से तैयार कराई थी। बाद में इसे अर्नेस्ट एंड यंग से तैयार कराया गया है। डीपीआर पर मिले सुझावों को शामिल करते हुए अंतिम डीपीआर दिसंबर के पहले सप्ताह में तैयार हो जाएगी। मेडिकल डिवाइस पार्क में निवेश जुटाने के लिए यमुना प्राधिकरण फार्मा कंपनियों से संपर्क कर रहा है। जल्द ही प्राधिकरण के अधिकारी कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ वेबिनार भी करेंगे। इसमें शासन स्तर के अधिकारी भी शामिल होंगे।

मेडिकल डिवाइस पार्क में चिकित्सा उपकरण तैयार करने वाली कंपनियों को इकाई लगाने के लिए भूखंड आवंटित किए जाएंगे। यहां उद्योग स्थापित करने पर केंद्र व राज्य सरकार की ओर से स्टांप, बिजली, पानी, जीएसटी आदि में रियायत दी जाएगी। मेडिकल डिवाइस पार्क की भूखंड योजना दिसंबर में निकाली जाएगी। दिसंबर के पहले सप्ताह में डीपीआर तैयार हो जाएगी। दिसंबर मध्य में भूखंड योजना आने की संभावना है।

डा. अरुणवीर सिंह, सीईओ यमुना प्राधिकरण औद्योगिक व आवासीय योजना की भी तैयारी

यमुना प्राधिकरण औद्योगिक व आवासीय भूखंड योजना लाने की भी तैयारी कर रहा है। औद्योगिक भूखंड योजना में छोटे भूखंड शामिल किए जाएंगे। यह भूखंड साढ़े तीन सौ वर्गमीटर से लेकर चार हजार वर्गमीटर से कम होंगे। इनका आवंटन लाटरी के माध्यम से किया जाएगा। इसके साथ ही आवासीय भूखंड योजना के लिए सर्वे कराया जाएगा। सेक्टर 18 व 20 में सर्वे का काम पूरा हो चुका है। दोनों सेक्टर में 86 भूखंड योजना के लिए चिह्नित किए गए हैं। सेक्टर 16 में अभी सर्वे का काम शेष है।