टीकाकरण के लिए ग्रामीणों को प्रेरित करें युवा : सीएमओ

मुजफ्फनगर जेएनएन। नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में शुक्रवार को आयोजित वर्चुअल कार्यशाला में

JagranFri, 18 Jun 2021 11:43 PM (IST)
टीकाकरण के लिए ग्रामीणों को प्रेरित करें युवा : सीएमओ

मुजफ्फनगर, जेएनएन। नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में शुक्रवार को आयोजित वर्चुअल कार्यशाला में सीएमओ डा. महावीर सिंह फौजदार ने कहा कि कोरोना निरोधक टीकाकरण के लिए गांव-गांव में कैंप लगाए जा रहे हैं। युवा वर्ग ग्रामीणों को टीकाकरण कराने के लिए प्रेरित करने में अपनी भूमिका निभाए। जिला टीकाकरण अधिकारी डा. राजीव निगम ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण का प्रमुख लक्षण बुखार और सूखी खांसी आना है। गले में खराश, सिर दर्द, डायरिया जैसे लक्षण भी हो सकते हैं। यदि ऐसे लक्षण दिखाई देते है तो तत्काल कोरोना की जांच कराएं। यूनीसेफ की जिला समन्वयक तरन्नुम ने कहा कि मासिक धर्म के दौरान महिलाए टीकाकरण करा सकती है। जिला युवा अधिकारी प्रतिभा शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए हाथों को समय-समय पर साबुन और पानी से हाथ धोएं। सैनिटाइजर को हाथों पर अच्छी तरह लगाएं। अपनी आंखों को छूने से बचें, नाक और मुंह पर भी हाथ लगाने से बचें। शारीरिक दूरी का पालन करें। आप छींक या खांस रहे हैं तो अपने मुंह के सामने रूमाल रखें। कार्यशाला को यूनीसेफ के मंडल समन्वयक डा. हरेंद्र पंवार, विश्व स्वास्थ्य संगठन की डा. ईशा गोयल, कार्यक्रम सहायक हरिप्रकाश ने भी संबोधित किया। कार्यशाला में प्रिया सैनी, पूजा, प्रीति पाल, लक्ष्मी, प्रियंका, तानिया सैनी, विक्रांत त्यागी, विनोद, अंशुल, विजय, निशु काकरान, मोहित आदि का सहयोग रहा।

नदीम जाफर ने हल्दी दूध पीकर जीत लिया कोरोना

जागरण संवाददाता, मुजफ्फरनगर: अधिवक्ता नदीम जाफर जैदी ने हल्दी दूध पीकर कोरोना को हरा दिया। उन्होंने ऐलोपैथिक दवाइयां भी लेकिन काढा तथा योगा पर अधिक ध्यान केन्द्रित किया। घबराहट से बचने के लिए कानून की किताबों में मन लगया और 15 दिन में स्वस्थ होकर अब वह लोगों को प्रेरित कर रहे हैं।

कोरोना वायरस संक्रमण के साथ कोरोना की दहशत ने लोगों को बहुत परेशान किया है। सोशल मीडिया पर घूम रहे आंकड़ो ने संक्रमितों के साथ-साथ व्यक्तियों के मन को भी विचलित कर दिया था। ऐसे ही हालात में 25 अप्रैल को एड. नदीम जाफर जैदी को बुखार ने घेर लिया था। लक्षण पहचान अधिवक्ता ने टेस्ट कराया तो वह कोरोना पाजिटिव पाए गए। बताते हैं कि कोरोना पाजिटिव आने पर उन्हें थोड़ा घबराहट जरूर हुई लेकिन उन्होंने मन को विचलित नहीं होने दिया। बताया कि एक चिकित्सक से सलाह लेकर उपचार शुरू किया। ऐलोपैथिक दवाइयां ली और हल्दी दूध का सेवन शुरू किया। इसके साथ ही उन्होंने काढा भी सुबह शाम पिया। दिन में तीन बार भाप और सुबह उठकर योगा तथा प्राणायाम किया। एड. नदीम जाफर बताते हैं कि बीमारी के दौरान एक पल ऐसा भी आया कि उन्हें बड़ी घबराहट हुई लेकिन उन्होंने तनाव को स्वयं पर हावी नहीं होने दिया। घबराहट दूर करने को उन्होने धार्मिक तथा कानून की किताबे पढ़ी। जिसके बाद वह धीरे-धीरे स्वस्थ्य होते चले गए। बताया कि टेस्ट में नेगेटिव आने के बाद उन्होंने लोगों को दूसरों की मदद के लिए प्रेरित किया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.