कृषि विभाग की टीम ने लिए जिप्सम के सैंपल

भोपा के सिकंदरपुर गांव में किसानों की ओर से नकली खाद बनाने की शिकायत पर पुलिस ने छापेमारी करते हुए सैकड़ों बोरे कब्जे में ले लिए थे। कृषि विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल की तथा खाद का सैंपल लिया। उन्होंने कहा कि मामले की जांच-पड़ताल की जाएगी।

JagranMon, 29 Nov 2021 11:25 PM (IST)
कृषि विभाग की टीम ने लिए जिप्सम के सैंपल

जेएनएन, मुजफ्फरनगर। भोपा के सिकंदरपुर गांव में किसानों की ओर से नकली खाद बनाने की शिकायत पर पुलिस ने छापेमारी करते हुए सैकड़ों बोरे कब्जे में ले लिए थे। कृषि विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल की तथा खाद का सैंपल लिया। उन्होंने कहा कि मामले की जांच-पड़ताल की जाएगी।

प्रभारी निरीक्षक सुभाष बाबू अत्री ने बताया कि थाना क्षेत्र के सिकंदरपुर गांव में बीते रविवार की देर रात में पुलिस को कुछ किसानों ने जंगल में नकली खाद बनाए जाने की जानकारी दी। पुलिस ने रात में ही जंगल में पहुंचकर सैकड़ों बोरे कब्जे में ले लिया था। सोमवार सुबह जिला कृषि अधिकारी जसवीर सिंह तेवतिया ने अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचकर निरीक्षण ़िकया। उन्होंने बताया कि नकली खाद बनाने की जानकारी प्राप्त हुई थी, लेकिन यह न तो डीएपी है न ही एनपीके। यह एक प्रकार की जिप्सम खाद है। किसी कंपनी का लेवल भी नहीं मिला है। यह एक प्रकार की जैविक खाद है। सरकार आजकल जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए कार्य कर रही है। टीम ने सैंपल लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे हैं। अधिकारियों ने कहा कि अगर किसी प्रकार की संदिग्ध खाद आती है तो उचित कार्यवाही की जाएगी। जिला कृषि अधिकारी जसवीर सिंह तेवतिया ने बताया कि ग्रामीणों की शिकायत की जांच की गई थी। प्रथम दृष्टया नकली खाद बनाने का मामला नहीं मिला है। नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं।

बेसहारा पशु कर रहे फसल नुकसान

जेएनएन, मुजफ्फरनगर। मीरापुर के टिकोला व पुट्ठी इब्राहिमपुर गांव के जंगल में बेसहारा पशु किसानों की फसल नुकसान कर रहे हैं। इससे किसान बेहद चिचित नजर आ रहे हैं।

रामराज के चूहापुर गांव में गौशाला बनी हुई है। इसके बावजूद कुछ लोग अपने गोवंशी बेसहारा छोड़ देते हैं, जिससे ये बेसहारा पशु चारे की तलाश में सड़कों व जंगलों में भटकते रहते हैं। टिकोला व पुट्ठी इब्राहिमपुर के जंगलों में बेसहारा पशुओं ने कई किसानों की गेहूं व सरसों की फसल को भारी नुकसान पहुंचाया है, जिससे किसान बेहद परेशान हैं। किसान रामपाल, कवंरपाल, ब्रजेश, दिनेश, पवन, सुंदर, नीरज, संदीप व योगेंद्र आदि ने बेसहारा पशुओं को गौशाला भिजवाने की मांग की है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.