top menutop menutop menu

शाहनवाज हत्याकांड में रविन्द्र पटवारी पर आरोप तय

मुजफ्फरनगर, जेएनएन। शाहनवाज हत्याकांड के मामले में छठे आरोपित रविन्द्र उर्फ पटवारी पर कोर्ट ने आरोप तय कर दिए हैं। रविन्द्र उर्फ पटवारी जमानत पर है। हालांकि हत्याकांड के पांच आरोपितों पर कोर्ट पहले ही आरोप तय कर चुकी है। सभी आरोपित जमानत पर चल रहे हैं।

27 अगस्त 2013 को जानसठ थाना क्षेत्र के गांव कवाल में शाहनवाज सहित मलिकपुरा निवासी ममेरे भाइयों सचिन व गौरव की हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में वादी मो. सलीम ने मलिकपुरा निवासी सचिन व गौरव सहित प्रहलाद, बिशन, तेन्द्र उर्फ तेंदू, देवेन्द्र व जितेन्द्र को नामजद करते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। एसआइसी ने विवेचना पूरी कर सचिन व गौरव को छोड़कर बाकि छह आरोपितों को क्लीनचिट देते हुए कोर्ट में एफआर दाखिल कर दी थी। जिसके बाद निजी परिवाद पर एसीजेएम-2 ने सभी छह आरोपितों को तलब किया था। कोर्ट में पेश नहीं होने पर सभी के एनबीडब्लू जारी किए गए थे। चार जून 2019 को रविन्द्र उर्फ पटवारी को छोड़कर बाकि पांच आरोपितों को जानसठ पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया था, जहां से सभी को जेल भेज दिया गया था। जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने 10 जुलाई को जमानत अर्जी पर सुनवाई कर आरोपित प्रह्लाद, बिशन तथा तेन्द्र उर्फ तेंदू की जमानत स्वीकार कर ली थी। जिसके बाद तीनों को रिहा कर दिया गया था। नौ अगस्त को बाकि दो आरोपित देवेन्द्र व जितेन्द्र को भी सत्र न्यायालय से जमानत मिल गई थी। जिसके बाद छह सितंबर को छठे आरोपित रविन्द्र उर्फ पटवारी ने सीजेएम कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। जिसे कोर्ट ने 28 सितंबर को जमानत पर रिहा कर दिया था। तब से ही हत्याकांड के सभी आरोपित जमानत पर हैं। हालांकि कोर्ट इस हत्याकांड के पांच आरोपितों पर पहले ही आरोप तय कर चुकी है। जिला एवं सत्र न्यायालय ने हत्याकांड के मामले में सुनवाई करते हुए जमानत पर चल रहे छठे आरोपित रविन्द्र उर्फ पटवारी पर भी आरोप तय कर दिये। बचाव पक्ष के वरिष्ठ अधिवक्ता अनिल जिदल ने बताया कि जिला एवं सत्र न्यायाधीश संजय कुमार पचौरी ने इस मामले में सुबूत के लिए 30 अक्टूबर की तिथि नीयत की है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.