पराली नहीं जलाएंगे, तकनीक से बढ़ेगी मृदा की शक्ति

पराली नहीं जलाएंगे, तकनीक से बढ़ेगी मृदा की शक्ति
Publish Date:Thu, 29 Oct 2020 02:51 AM (IST) Author: Jagran

मुरादाबाद: बैंक बदलने की वजह से किसानों को सम्मान निधि की किस्त मिलने में परेशानी हो रही है। बुधवार को दैनिक जागरण कार्यालय के प्रश्न पहर में आए उप निदेशक कृषि सीएल यादव ने किसानों की समस्याओं का समाधान किया। उन्होंने बताया कि हर ब्लाक में डीपीटी कर्मचारी लैपटाप के साथ वहां बैठे हुए हैं। अपने प्रपत्र लेकर जाएं और वहां चेक कराएं। बैंक में भी अपना आधार नंबर अपडेट कराएं। इसके अलावा पराली जलाने पर सरकार की ओर से जुर्माना लगाया जाएगा। पराली नहीं जलाने से पैदावार अच्छी होगी और दूसरी दिक्कतें भी नहीं होंगी। सभी गन्ना केंद्र और कोआपरेटिव समितियों के पास मल्चर एमबी प्लाऊ मौजूद हैं, उससे जोताई कराएं। इससे पराली के अवशेष दब जाएंगे। इस प्रकार से प्रदूषण नहीं होगा, मृदा के जीवाणु नहीं मरेंगे और मृदा का स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। पराली जलाने पर लगेगा जुर्माना

खेत में पराली जलाने पर जुर्माना लगेगा। एक से दो एकड़ की भूमि पर ढाई हजार, दो से पांच एकड़ जमीन पर पांच हजार और पांच एकड़ से ज्यादा जमीन पर 15 हजार का जुर्माना लगाया जाएगा।

----

तहसील में कराएं डाटा फीड

प्रधानमंत्री सम्मान निधि के लिए किसान अपनी जमीन की खसरा खतौनी, घोषणा पत्र, बैंक पासबुक और आधार कार्ड के साथ तहसील में पहुंचे। क्षेत्रीय लेखपाल से बात करके पत्र साइट पर अपलोड कराएं। इसके बाद गूगल पर स्टेटस देखने के लिए पीएम किसान साइट खोलेंगे तो हेल्प डेस्क आप्शन दिखाई देगा। इसपर अपना आधार नंबर डालेंगे तो आपका डाटा खुल जाएगा। जो भी कमी साइट पर आपको दिखाई दे, उसको दूर कराएं।

-----

इन्होंने पूछे सवाल

चन्दौसी कैथल गांव से नेतराम मौर्य, सम्भल से वेद प्रकाश आर्य, अमरोहा के गंगेश्वरी रहरा से गुलाब सिंह, त्रिलोकपुर से अहमद हुसैन, अमरोहा बाइखेड़ा से जयचंद, मूंढापांडे से प्रकाश कुमार, दलपतपुर से कारी सज्जाद आदि ने सवाल पूछे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.