top menutop menutop menu

RTE admission : 14 को खुलेगी तीसरे चरण की लॉटरी, 700 से ज्यादा बच्चों को मिलेगा मौका

RTE admission : 14 को खुलेगी तीसरे चरण की लॉटरी, 700 से ज्यादा बच्चों को मिलेगा मौका
Publish Date:Wed, 12 Aug 2020 12:10 PM (IST) Author: Narendra Kumar

मुरादाबाद, जेएनएन।  शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत तीसरे चरण में 700 से ज्यादा बच्चों की किस्तम खुलेगी। शुक्रवार को होने वाली इस लॉटरी में इन बच्चों को भी अच्छे स्कूलों में निश्शुल्क दाखिला लेने का मौका मिलेगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी योगेंद्र कुमार ने बताया कि अभी तक ऑनलाइन व ऑफलाइन माध्यम से 706 आवेदन जिला कार्यालय को प्राप्त हो चुके हैं। जिनका सत्यापन चल रहा है, जो बुधवार तक पूरा हो जाएगा। इसके बाद बचे आवेदनों को लॉटरी में रखा जाएगा।

कोरोना के कारण पहली बार अभिभावकों को शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत तीसरे चरण में आवेदन करने का मौका मिला है। इससे पहले दो ही चरणों में आवेदन पूरे जो जाते थे। तीसरे चरण मेें 10 अगस्त तक हुए आवेदन के तहत अभी तक बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय को ऑफलाइन माध्यम से 56 व ऑनलाइन माध्यम से 650 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। इनका सत्यापन 12 अगस्त तक पूरा होना है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगेंद्र कुमार ने बताया कि पहले दो चरणों में कई आवेदन निरस्त होने के कारण 544 सीटें खाली रह गई थीं, जिन्हें तीसरे चरण में शामिल किया जाएगा और अधिक से अधिक बच्चों को लॉटरी के माध्यम से स्कूलों का आवंटन किया जाएगा।

पहले से स्कूल में पढ़ रहे बच्चे आ रहे सामने

आरटीई के पहले दो चरणों में हुई लॉटरी में अब कई मामले ऐसे सामने आ रहे हैं, जिनमें बच्चे पहले से दूसरे स्कूल में पढ़ रहे हैं। ऐसे कुछ मामले जिला कार्यालय भी पहुंचे हैं, जिसके बाद कार्यालय ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं। अधिकारियों का कहना है कि कोई भी स्कूल बिना प्रमाण के बच्चों के आवेदन निरस्त नहीं कर सकता है। अगर बच्चे पहले से पढ़ाई कर रहे हैं तो उसके प्रमाण देखने के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा।

दो चरणों में 2487 बच्चों को मिली हैं सीटें

पहले दो चरणों में आरटीई के तहत 2487 बच्चों को सीटें आवंटित हो चुकी हैं। पहले चरण में 1846 बच्चों को सीटों का आवंटन हुआ था, वहीं दूसरे चरण में 641 बच्चों को मौका मिला था। बीएसए योगेंद्र कुमार का कहना है कि अधिकतर स्कूलों में दाखिला प्रक्रिया भी लगभग पूरी हो चुकी है, जहां समस्याएं आ रहीं हैं उनका निस्तारण किया जा रहा है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.