पूर्वोत्तानासन योग आसन से मजबूत बनेंगी हाथ-पैर और पीठ की मांसपेशियां

योग आसन के न‍ियम‍ित अभ्‍यास से कई अन्‍य भी स्‍वास्‍थ्‍य लाभ होते हैं।

Purvottanasanayoga yoga posture पूर्वाेत्तनासन योग आसन के कई लाभ हैंं। न‍ियम‍ित इस योग अभ्‍यास से कई स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी परेशान‍ियों से दूर रहा जा सकता है। यह योग आसन हाथ पैर और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है।

Publish Date:Sat, 23 Jan 2021 10:32 AM (IST) Author: Narendra Kumar

मुरादाबाद, जेएनएन। Purvottanasanayoga yoga posture। भागदौड़ भरी जिंदगी में खुद पर भी ध्यान देना जरूरी है। हाथ-पैर और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करना है तो आपको नियमित पूर्वाेत्तनासन योग आसन को करना चाह‍िए। इस योग आसन के न‍ियम‍ित अभ्‍यास से कई अन्‍य भी स्‍वास्‍थ्‍य लाभ होते हैं।

याेग प्रशिक्षक डॉ. महजबीं परवीन ने बताया कि इस आसन के करने से श्वसन क्रिया में भी सुधार आएगा। शरीर और मन में भी संतुलन बना रहेगा। कमर के दर्द में भी आराम मिलेगा। स्लिपडिस्क, सर्वाइकल के मरीजों को ये आसन नहीं करना है। इसके लिए सबसे पहले जमीन पर कंबल बिछाकर बैठ जाएं, अब कंबल पर सीधे कमर के बल लेट जाएं। पैरों को सीधा रखते हुए बैठ जाएं। हथेलियों को शरीर के पीछे जमीन पर रखें। अब सांस भरते हुए शरीर को जमीन से ऊपर उठाएं। तलवा सपाट जमीन पर रखें। अभ्यास के दौरान पैर और हाथ सीधा जमीन पर रखें और सांस को सामान्य बना लें। सांस छोड़ते हुए शरीर को वापस जमीन पर लाएं। इस आसन को कम से कम दो से तीन मिनट तक करें। इसके बाद दोबारा पूर्व अवस्था में आ जाएं। इस अभ्यास को पांच बार दोहराएं। इस तरह से न‍ियम‍ित इसका अभ्‍यास करते रहे, शुरुआत में इस योग आसन के अभ्‍यास में थोड़ी द‍िक्‍कत आ सकती है लेकिन न‍ियम‍ित इसके अभ्‍यास से यह आसान होता चला जाएगा। इसके अलावा स्‍वस्‍थ रहने के ल‍िए फल आदि का भी सेवन करते रहें, यह हेल्‍दी सीजन है, ऐसे में संतुल‍ित आहार पर भी ध्‍यान दें।  पानी भी न‍ियम‍ित अंतराल पर पीते रहें। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.