मुरादाबाद में फेल हो रही कोरोना के नए वेरिएंट से न‍िपटने की तैयारी, व‍िदेश से आ रहे काफी लोग, सैंपलिंग में नहीं आ पा रही तेजी

विदेश से लौटकर आने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। इसके बावजूद उनकी निगरानी में तंत्र पूरी तरह से फेल साबित हो रहा है। ऐसे में उनसे में किसी एक के भी संक्रमित होने की दशा में मुरादाबाद में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा।

Narendra KumarPublish:Mon, 06 Dec 2021 08:58 AM (IST) Updated:Mon, 06 Dec 2021 08:58 AM (IST)
मुरादाबाद में फेल हो रही कोरोना के नए वेरिएंट से न‍िपटने की तैयारी, व‍िदेश से आ रहे काफी लोग, सैंपलिंग में नहीं आ पा रही तेजी
मुरादाबाद में फेल हो रही कोरोना के नए वेरिएंट से न‍िपटने की तैयारी, व‍िदेश से आ रहे काफी लोग, सैंपलिंग में नहीं आ पा रही तेजी

मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। कोरोना संक्रमण के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर पूरे विश्व में हलचल मची हुई है। आरटीपीसीआर जांच पर फोकस किया जा रहा है। वहीं, मुरादाबाद में हालात को लेकर स्वास्थ्य विभाग में चिंता दिखाई नहीं दे रही है और हालात बिगड़ने का इंतजार किया जा रहा है। विदेश से लौटकर आने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। इसके बावजूद उनकी निगरानी में तंत्र पूरी तरह से फेल साबित हो रहा है। ऐसे में उनसे में किसी एक के भी संक्रमित होने की दशा में मुरादाबाद में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा।

हालात यह है कि जनपद की स्थिति खराब होती जा रही है। तीन हजार नमूनों के सापेक्ष एक हजार का भी आंकड़ा हम पूरा नहीं कर पा रहे हैं। हालात यह हैं कि बाजार, बस अड्डा समेत अन्य सार्वजनिक स्थलों पर फोकस्ड नमूने लिए जाने के लिए भी टीमें नहीं पहुंच पा रहीं हैं।

अब तक 203 लोग विदेश से मुरादाबाद आ चुके हैं : मुरादाबाद निर्यात नगरी के नाम से दुनिया भर में प्रसिद्ध है। निर्यातक कारोबार के सिलसिले में दुनिया भर के देशों में व्यापारिक यात्रा पर रहते हैं। पिछले दिनों हालात में सुधार के बाद से निर्यातकों के साथ ही, निर्यात उद्योग से जुड़े लोगों ने विदेशों में कारोबार के सिलसिले में यात्रा शुरू कर दीं थी। दुनिया भर में ओमिक्रोन का खतरा बढ़ने के साथ ही सतर्कता बढ़ाने और उड़ान पर रोक लगने लगी तो सभी स्वदेश लाैटने लगे। पिछले आठ दिनों में मुरादाबाद में 203 लोग विदेश से लौटकर मुरादाबाद आ चुके हैं। केंद्र सरकार की गाइड लाइन के अनुसार विदेश से लौटने वालों की सात दिन तक निगरानी की जाएगी। लेकिन, ऐसा नहीं हो रहा है। तबीयत खराब होने पर उनका नमूना भी लिया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मचारियों के चल रहे धरना प्रदर्शन के चलते जांच प्रभाव‍ित हो रही है।

देश में अब तक 14 लोग ओमिक्रोन संक्रमण से पीड़ित मिल चुके हैं। लेकिन, जनपद में आरटीपीसीआर नमूनों को लेकर स्थिति ठीक नहीं है। जद्दो-जहद के बाद आरटीपीसीआर का आंकड़ा एक हजार को भी पार नहीं कर पा रहा है। जबकि तीन हजार आरटीपीसीआर नमूने लेने का निर्देश भी मिल चुका है। चुनिंदा स्थानों पर तीन से पांच टीमें ही नमूने कर पा रही हैं। सार्वजनिक स्थल, बाजार, बस अड्डा, बैंक्वेट हाल, रिक्शा चालक, ई-रिक्शा चालक, थ्री-व्हीलर, शापिंग माल, सब्जी विक्रेता आदि के नमूने लेने थे। लेकिन, अभी तक फोकस्ड नमूने नहीं लिए जा सके हैं।

तारीख,                   नमूने

04 दिसंबर,             829,

03 दिसंबर,              776,

02 दिसंबर,              919,

01 दिसंबर,               09,

30 नवंबर,                  895

29 नवंबर,                 1237

28 नवंबर,                1083

रविवार को नहीं मिली सूची : विदेश से आने वाले यात्रियों की रविवार को एयरपोर्ट से सूची नहीं मिली है। जिले में अब तक 203 लोग आ चुके हैं। इसमें महज 40 लोगों के ही नमूने हो पाए थे। नई गाइडलाइन के बाद विदेश से आने वालों की सात दिन तक निगरानी की जा रही है। विदेश से आने वाले लोगों की हर दिन सुबह शाम स्वास्थ्य की जानकारी लेनी है। उनमें किसी तरह का बदलाव होता है तो आरटीपीसीआर नमूना लिया जाएगा।

कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर पूरी तरह सतर्कता बरती जा रही है। लैब तकनीशियन की कमी होने की वजह से नमूने कम हुए हैं। उम्मीद है सोमवार से नमूने बढ़ जाएंगे। कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई गई है।

डा. एमसी गर्ग, मुख्य चिकित्सा अधिकारी