आक्सीजन के लिए घरों में लगा रहे मदर्स इन लॉ ऑफ टंग का पौधा

घरों में भरपूर आक्सीजन के लिए लोग अब मदर्स इन लॉ ऑफ टंग का पौधा।
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 02:59 AM (IST) Author:

तेजप्रकाश सैनी, मुरादाबाद : घरों में भरपूर आक्सीजन के लिए लोग अब मदर्स इन लॉ ऑफ टंग (सासू मा की जीभ) पौधे खूब लगा रहे हैं। बेड रूम और ड्राइंग रूम के अलावा लॉबी में लोग लगा रहे हैं। पहले पौधा 20 रुपये आसानी से नर्सरी में मिलता था। मांग अधिक होने पर 30 से 40 रुपये तक बिक रहा है। पर्यावरण संरक्षण के साथ खुद को शुद्ध वायु मिले, इसके प्रति लोग ज्यादा सजग हुए हैं। आक्सीजन के लिए अन्य पौधों के अलावा घरों में मदर्स इन लॉ ऑफ टंग के पौधों को लगा रहे हैं। खासियत यह है कि यह पौधा बिना धूप व पानी के जीवित रह सकता है। कार्बनडाई मोनो आक्साइड व कार्बन डाईआक्साइड गैस को अवशोषित करता है। ¨हदू कालेज की वनस्पति विज्ञान की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ.अनामिका त्रिपाठी ने बताया कि लॉकडाउन के दौरानसौ से ज्यादा लोगों से घर के भीतर प्रदूषण के खतरे को कैसे कम करें। इस पर चर्चा हुई तो मदर्स इन ला ऑफ टंग का पौधा लगाने की सलाह दी। यह पौधा आम तौर पर लोगों के घरों में पहले से भी होता था। खासियत लोगों को अब पता चल रही है। उन्होंने बताया कि जानकारी नहीं होने पर लोग छत पर धूप में भी पौधे के गमले को रख देते थे। प्रदूषण के खतरे को कम करने के लिए घर के अंदर इनको लगाना चाहिए। स्नेकपाम भी छोड़ता है आक्सीजन मदर्स इन लॉ ऑफ टंग के अलावा स्नेकपाम का पौधा भी कार्बनडाई आक्साइड को अवशोषित करने का काम करता है। इसके पत्ते पर धारिया होती हैं, जो एकदम साप की पीठ पर धारियों जैसी लगती हैं। इसीलिए इसका वनस्पति नाम स्नेक पाम पड़ा। इसके अलावा नरगिस, गुलमोहर और तुलसी का पौधे भी आक्सीजन पर्याप्त मात्रा में छोड़ते हैं। ¨हदू कालेज काले की वनस्पति विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ.अनामिका त्रिपाठी ने बताया कि मदर्स इन लॉ ऑफ टंग पौधा बिना धूप व पानी के जीवित रह सकता है। लॉकडाउन से अब तक लोग घर में शुद्ध हवा के लिए पौधे लगा रहे हैं। यह किसी भी नर्सरी में आसानी से उपलब्ध है। दयानंद कालेज की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. कंचन सिंह ने बताया कि शुद्ध हवा चाहिए तो घर के भीतर भी ऐसे पौधे लगाने चाहिए, जो आक्सीजन छोड़ते हैं और कार्बनडाई आक्साइड को ग्रहण करते हैं। मैंने अपने घर में यह पौधे विशेषज्ञों की राय से लगाए हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.