मुरादाबाद ज‍िला अस्‍पताल में लापरवाही, हमले में फट गया बुजुर्ग का द‍िल, च‍िक‍ित्‍सक‍ बोले-एक्‍सरे कराकर सुबह आना

यह रार ही रूपचंद के मौत का सबब बन गई।

मरणासन्न 70 वर्षीय वृद्ध को साथ लेकर उसके तीनों बेटे महानगर में पूरी रात दौड़ लगाते रहे। लेकिन जिला अस्पताल के चिकित्सकों व पुलिस की संवेदनशीलता सोई रही। किसी ने भी यह समझने की कोशिश नहीं की कि रूपचंद तीन बच्चों का महज पिता ही नहीं बल्कि मां भी है।

Narendra KumarThu, 08 Apr 2021 02:12 PM (IST)

मुरादाबाद, जेएनएन। बेरहम पिटाई से मरणासन्न 70 वर्षीय वृद्ध को साथ लेकर उसके तीनों बेटे महानगर में पूरी रात दौड़ लगाते रहे। लेकिन जिला अस्पताल के चिकित्सकों व पुलिस की संवेदनशीलता सोई रही। किसी ने भी यह समझने की कोशिश नहीं की कि रूपचंद तीन बच्चों का महज पिता ही नहीं बल्कि मां भी है। बचपन में ही मां को खोने वाले रूपचंद के तीनों बेटे पिता की दर्दनाक मौत से गहरे सदमे में हैं। जिला अस्पताल के चिकित्सकों व पुलिस की संवेदनहीनता ने तीनों को झकझोर कर रख दिया है।

वयोवृद्ध रूपचंद के मझले पुत्र राजकुमार ने बताया कि उसके तहेरे भाई मदन सिंह ने अपने तीनों बेटों के साथ अचानक पिता पर हमला बोला। तब वह मुरादाबाद से आकर घर में कपड़े निकाल रहा था। शोरगुल सुनकर जब वह बाहर निकला तो युवक के होश उड़ गए। प्रतिशोध की आग में जल रहे हमलावर रूपचंद को बेरहमी से पीट रहे थे। उन्हें न तो रिश्ते का ख्याल रहा और न ही रूपचंद की उम्र का। हमलावरों की आंख में आक्रोश के अंगारे दहक रहे थे। लाठी डंडे से वृद्ध के हाथ व पैर पर ताबड़तोड़ प्रहार करने के बाद भी हमलावरों के प्रतिशोध की ज्वाला शांत नहीं हुई। उन्होंने कोहनी से सीने पर कई वार किया। यही वजह रही कि वृद्ध रूपचंद का हृदय फट गया। वह बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ा। इसके बाद हमलावर भागे। मणरासन्न पिता को देख सन्न राजकुमार व उसका छोटा भाई पहले रूपचंद को साथ लेकर पहले पुलिस चौकी पहुंचे। पुलिस कर्मियों ने जिला अस्पताल में रूपचंद का मेडिकल तो कराया, लेकिन वृद्ध के दिल का घाव समझने में चूक कर गए। राजकुमार के मुताबिक वृद्ध पिता की एक्सरे कराने की सलाह देते हुए चिकित्सकों ने उसे सुबह बुलाया। लाचार राजकुमार को तब पता नहीं था कि घर पर पिता की मौत इंतजार कर रही है। रात दो बजे रूपचंद के सीने में तेज दर्द हुआ। निजी अस्पताल ले जाते ही उसे मृत घोषित कर दिया गया। तीन बजे पिता की मौत की पुष्टि बाद पूरा परिवार गहरे शोक में डूब गया। राजकुमार के मुताबिक रूपचंद ने ही अकेले दम पर पूरा परिवार खड़ा किया था। हत्यारोपित मदन सिंह का पुत्र राहुल इस वक्त जेल में है। राहुल के जेल जाने को लेकर रूपचंद व मदन के बीच रार शुरू हो गई। यह रार ही रूपचंद के मौत का सबब बन गई।

यह भी पढ़ें :-

Panchayat Election 2021 : ​​​​​एंबुलेंस में शराब भरकर ले जा रहे थे तस्‍कर, पुलिस ने रोका तो बोले-सर इमरजेंसी है, तलाशी के बाद पुलिस कर्मी भी रह गए हैरान

सम्‍भल के द‍िलजले को गैंगस्टर कोर्ट ने दी दो साल की सजा, पांच हजार रुपये जुर्माना भी देना होगा

प्रधान पद का प्रत्‍याशी बोला-मैंने पुलिस को घूस दे दी है, हमारे अलावा अन्‍य क‍िसी के नहीं पड़ेंगे फर्जी वोट, वीडियो वायरल होने पर मुकदमा

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह आज रामपुर में आएंगे, चुनाव संचालन समिति की लेंगे बैठक

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.