National Pollution Control Day 2021 : इस साल प्रदूषण के स्‍तर में सुधार, फ‍िर भी बढ़ रहे दमा और कैंसर के रोगी

National Pollution Control Day 2021 प्रदूषण विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठा हुआ है। प्रदूषण रोकने को स्थानीय स्तर पर कोई काम नहीं किया जा रहा है। शहर में पीतल की भट्ठियाें की संख्या करीब 5400 है लेकिन इनको बाहर निकालने के लिए कोई प्रयास नहीं हो रहे हैं।

Narendra KumarFri, 03 Dec 2021 06:36 AM (IST)
पिछले साल नवंबर में प्रदूषण का स्तर अधिक रेड जोन में था शहर।

मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। National Pollution Control Day 2021 :  प्रदूषण से शहर की छवि देश भर में खराब है। प्रदूषण रोकने को अभी प्रयास फेल हैं। लेकिन, थोड़ी राहत की बात यह है कि प्रदेश में दूसरे शहरों से इस बार मुरादाबाद का प्रदूषण स्तर कम रहा। पिछले वर्ष 2020 में नवंबर माह के मुकाबले भी 2021 में नवंबर माह में प्रदूषण के मामले में थोड़ा सुधार रहा। लेकिन, यह संतोषजनक सुधार नहीं है। अबकी बार दीपावली पर भी प्रदूषण का स्तर रेड जोन से नीचे था। दीपावली वाले दिन 200 के आसपास प्रदूषण की स्थिति रही। गुरुवार की बात करें तो प्रदेश में प्रदूषण का स्तर सबसे कम 209 रहा। विशेषज्ञों के अनुसार नवंबर 2021 में नमी कम होने की वजह से प्रदूषण का स्तर पिछले से थोड़ा कम रहा है।

पीएम-10 व पीएम 2.5 बढ़ा रहे दमा व कैंसर की बीमारी : पीएम-10 व पीएम-2.5 की मात्रा बढ़ने से समस्या बढ़ी है। पीएम-2.5 हवा में ज्यादा है। इसके कण हलके होने से हवा में देर तक रहते हैं, जो सांस के जरिए शरीर में प्रवेश करते हैं और खून में पहुंचने से दमा, टीवी और कैंसर की समस्या रहती है। लेकिन, प्रदूषण विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठा है। उसने प्रदूषण रोकने को स्थानीय स्तर पर कोई काम नहीं किया है। शहर में पीतल की भट्ठियाें की संख्या करीब 5400 है लेकिन, इनको बाहर निकालने के लिए कोई प्रयास नहीं किए गए।

प्रदेश में प्रदूषण की स्थिति

मुरादाबाद           209

लखनऊ              219

गाजियाबाद         354

हापुड़                   310

बुलंदशहर              318

आगरा                  332

मेरठ                     333

मुजफ्फरनगर         350

बागपत                  374

नोएडा                    390

पिछले साल नवंबर 2020 में इतना था प्रदूषण का स्‍तर :

एक नवंबर                     373

दो नवंबर                       393

तीन नवंबर                     395

चार नवंबर                       425

पांच नवंबर                     489

छह नवंबर                     457

आठ नवंबर                    300

नौ नवंबर                      386

10 नवंबर                     349

18 नवंबर                     319

19 नवंबर                     344

20 नवंबर                     391

21 नवंबर                     476

22 नवंबर                       408

23 नवंबर                       381

24 नवंबर                       408

27 नवंबर                       367

28 नवंबर                       307

नवंबर 2021 में प्रदूषण की स्थिति

एक नवंबर                    294

दो नवंबर                     226

तीन नवंबर                   311

चार नवंबर                     284

पांच नवंबर                     259

छह नवंबर                      414

सात नवंबर                      287

आठ नवंबर                      312

नौ नवंबर                        323

10 नवंबर                        309

11 नवंबर                         384

13 नवंबर                        301

15 नवंबर                         309

16 नवंबर                         305

18 नवंबर                         302

20 नवंबर                         323

29 नवंबर                         312

धुएं से निकलने वाले प्रदूषित रंगतत्व रंग : एल्यूमीनियम सफेदकापर नीलाक्लोरेटस हरास्ट्रोंशियम लालसोडियम पीलाटाइटेनियम स्पार्कल, ज‍िंंक।

प्रदूषण का स्तर इस बार कम जरूर है। लेकिन, संतोष जनक अभी नहीं कह सकते। प्रदूषण को लेकर जिम्मेदार विभाग समेत लोगों को भी जागरूक होने की जरूरत है।

डा. अनामिका त्रिपाठी, विभागाध्यक्ष, वनस्पति विज्ञान, हिंदू कालेज

शिकायत मिलने पर पीतल की भट्ठी स्वामियों पर कार्रवाई होती है। जिला प्रशासन को भट्ठी से मुक्ति के लिए योजना बनानी चाहिए। रोजगार से जुड़ा होने के चलते कारोबार बंद नहीं करा सकते।

विकास मिश्रा, क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.