आइजी के टेस्ट में पास मुरादाबाद पुलिस Moradabad News

मुरादाबाद, जेएनएन। अयोध्या मुद्दे को लेकर बरती जा रही सावधानी को परखने के लिए पुलिस महानिरीक्षक परिक्षेत्र रमित शर्मा ने सिविल डिफेंस चौराहे से पीलीकोठी चौराहे तक पैदल गश्त की। इसके साथ ही पुलिस का क्विक रिस्पांस जानने के लिए एसएसपी से लेकर सभी चौकी प्रभारियों को वायरलेस सेट से इमरजेंसी मैसेज भेजा। संदेश जारी होने के 14 मिनट के अंदर एसएसपी से लेकर सभी चौकी प्रभारी पीली कोठी पहुंच गए। लिहाजा आइजी के टेस्ट में मुरादाबाद पुलिस पास हो गई।

जब चार मिनट में ही पहुंचे एसएसपी 

अयोध्या पर फैसला आने के बाद से ही लगातार सतर्कता बरती जा रही है। अभी इसको लेकर अलर्ट जारी है। सुरक्षा में कोई ढील तो नहीं आई, इसे परखने के लिए आइजी रमित शर्मा ने गुरुवार की रात 8:50 बजे पीलीकोठी चौराहे से कॉल कर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक नगर, सहायक पुलिस अधीक्षक, प्रभारी निरीक्षक सिविल लाइंंस एवं थाना सिविल लाइंस के समस्त चौकी प्रभारियों का रेस्पांस टाइम चेेक करने के लिए बुलाया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मुरादाबाद अमित पाठक चार मिनट के बाद ही मौके पर पहुंच गए। उनके साथ पुलिस अधीक्षक नगर अमित कुमार आनंद भी थे। सहायक पुलिस अधीक्षक 8:56 बजे, प्रभारी निरीक्षक सिविल लाइंस 8:55 बजे पीलीकोठी पहुंचे। चौकी प्रभारियों में चौकी सबसे पहले प्रभारी रेल चौकी 8:52 बजे, कैंप 8:54 बजे, चौकी प्रभारी फकीरपुरा 8:57 बजे, चौकी प्रभारी आसियाना 9:02 बजे, चौकी प्रभारी रामगंगा विहार 9:02 बजे, चौकी प्रभारी अगवानपुर 9:04 बजे पहुंचे। आइजी ने बताया कि सभी अधिकारी और कर्मचारी का रिस्पांस टाइम अच्छा रहा। सभी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गए

पुलिसकर्मियों को अलर्ट मोड में रहने के निर्देश

पीलीकोठी से फव्वारा चौक तक पैदल गश्त कर सुरक्षा और यातायात मानकों का परीक्षण किया गया। उन्होंने सभी पुलिस कर्मियों को अलर्ट मोड में रहने को कहा है। साथ ही यह भी निर्देश दिए हैैं कि वह अपना असलाह और बॉडी प्रोटेक्टर भी साथ लेकर चलें। लापरवाही किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नहीं होगी।

मोबाइल में व्यस्त मिला सिपाही

गश्त के बाद आइजी जब पुलिस अकादमी के सामने से गुजर रहे थे तो एक सिपाही उन्हें मोबाइल में व्यस्त दिखाई दिया। वे तत्काल गेट पर रुके और जमकर फटकार लगाई और कार्रïवाई की चेतावनी भी दी। इसे सुरक्षा में लापरवाही मानते हुए एसएसपी को सिपाही का स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश दिए।

 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.