मुरादाबाद के साहित्य इंटरनेट मीडिया के जरिए लाेगाें काे कर रहे जागरुक, लिख रहे ये रचनाएं

मुरादाबाद के साहित्य इंटरनेट मीडिया के जरिए लाेगाें काे कर रहे जागरुक, लिख रहे ये रचनाएं

कोरोना संक्रमण के इस दौर में लोग डरे व सहमें हुए हैं। ऐसे माहौल में सकारात्मक सोच व उत्साहवर्धन जरूरी है। इस कोरोना को हराने के लिए साहित्यकारों ने भी अपनी रचनाओं से लोगों को जागरूक करने के साथ ही एक दूसरे का उत्साह बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं।

Ravi MishraSun, 16 May 2021 05:30 PM (IST)

मुरादाबाद, जेएनएन। कोरोना संक्रमण के इस दौर में लोग डरे व सहमें हुए हैं। ऐसे माहौल में सकारात्मक सोच व उत्साहवर्धन जरूरी है। इस कोरोना को हराने के लिए साहित्यकारों ने भी अपनी रचनाओं से लोगों को जागरूक करने के साथ ही एक दूसरे का उत्साह बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं। भले सामूहिक कार्यक्रम से दूरी बनाए हैं लेकिन, घर में रहकर रचनाएं लिखकर इंटरनेट मीडिया के माध्यम से जागरूक कर रहे हैं। संकट के इस दौर में मुरादाबाद के साहित्यकारों की एक गुज़ारिश है।

हम सब मिलकर वार करेंगे कोविड का संहार करेंगे माहेश्वर तिवारी, वरिष्ठ नवगीतकार

कोविड एक महामारी है जंग मगर इससे जारी है मंसूर उस्मानी, शायर

हम औरों की मदद करेंगे ईश्वर हमको स्वस्थ रखेंगे डा.मक्खन मुरादाबादी, व्यंगकार

ऑक्सीजन, प्लाज़्मा, दवाई सबको पहुंचाना है भाई डा. अजय अनुपम, साहित्यकार

जो भी हैं विपदा के मारे सब हैं भाई-बहन हमारेडा. कृष्ण कुमार 'नाज़'

लाभ उठाते हैं जो बंदे लगते हैं आँखों के अंधे योगेन्द्र वर्मा व्योम, नवगीतकार

धंधेबाज़ों से लड़ना है इनको भी चिह्नित करना है -डा. पूनम बंसल, कवियत्री

अब तो चेतें, अब तो संभलें मास्क पहनकर घर से निकलें राकेश जैन, कवि

सैनिटाइज़र साथ रखेंगे कोरोना को बाय कहेंगे ज़िया ज़मीर, शायर

ये संकट के क्षण हैं प्यारे ईश्वर इनसे जल्द उबारे राजीव प्रखर कवि 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.