Moradabad Environment News : पर्यावरण शुद्ध करने के लिए करनी होगी नुकसान पहुंचाने वाले पौधों की पहचान

पेड़-पौधे से ही पर्यावरण को शुद्ध व स्वच्छ बनाया जा सकता है। पीतल नगरी में भी ऐसे तमाम पेड़-पौधे हैं जो पर्यावरण को तरोताजा करते हैं। लेकिन इन्हीं के बीच कुछ पेड़-पौधे वन संपदा को नष्ट कर रहे हैं। उदाहरण के तौर पर जलकुंभी को ही ले लीजिए।

Ravi MishraThu, 17 Jun 2021 03:59 PM (IST)
Moradabad Environment News : पर्यावरण शुद्ध करने के लिए करनी होगी नुकसान पहुंचाने वाले पौधों की पहचान

मुरादाबाद, जेएनएन। Moradabad Enviroment News : पेड़-पौधे से ही पर्यावरण को शुद्ध व स्वच्छ बनाया जा सकता है। पीतल नगरी में भी ऐसे तमाम पेड़-पौधे हैं, जो पर्यावरण को तरोताजा करते हैं। लेकिन, इन्हीं के बीच कुछ पेड़-पौधे वन संपदा को नष्ट कर रहे हैं। उदाहरण के तौर पर जलकुंभी को ही ले लीजिए। एक ही तालाब में पाई जाने वाली जलकुंभियां अलग-अलग तरीके से काम करती हैं। एक जलकुंभी पानी को साफ करने का काम कर रही है। दूसरी पानी को सोखने का काम करती है।

गेहूं- धान हो या गन्ने की फसल खरपतवार के नाम से पहचाने वाले पेड़-पौधे कितनी ही उपजाऊ जमीन पर बोए जाने वाली फसल को कमजोर बनाने का काम करते हैं। इससे फसलों की पैदावार भी कम होती है। वन विभाग के पास भी इन बुरे पौधों के आंकड़े नहीं हैं। अच्छे पौधे लगाने के लिए हर घर से पहल होनी चाहिए। ऐसे पौधों की पहचान कराने के लिए किसानों और आम आदमी को जागरूक करने की जरूरत है।

अच्छे पौधे आम, पीपल, बरगद, पाकर, गूलर, नीम, सहजन, अमलताश, बेलपत्र, आंवला, तुलसी, जामुन ,केला, बांस, चंदन, देवदार, कंजी आदि को अच्छे पौधे माना जाता हैं।नुकसान पहुंचाने वाले पौधे यूकेलिप्टस पौधा जमीन की नमी को कम करके पानी अधिक सोखता है। इसलिए इसे भी बुरे पौधों में गिना जाता है। इसके अलावा फालोनिया, एलएस सीमिया, चीड़, पापूलर, गाजर घास, दूब घास भी बुरे पौधों की श्रेणी में आते हैं। यह गेहूं समेत कई फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं।

किसानों को इसका नुकसान झेलना होता है। घर में अच्छे पौधे लगाने से सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। नरगिस, रात की रानी, रोजमेरी, मेरी गोल्ड आदि के फूलों की खुशबू से घर महकता है। इसलिए पौधे रोपित करें। आबिदा खातून, गुइयां बाग

तुलसी के पौधे के बेशुमार फायदे हैं। घर में आक्सीजन के साथ ही औषधीय गुण हैं। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी बहुत सहायक है। इसलिए अच्छे पौधे घरों में रोपित करें। शुचि पंडित, खुशहालपुर

नीम एक फायदे अनेक। हम लोगों के घर पर नीम का पेड़ है। उसकी हवा के क्या कहने हैं। ताजगी का अहसास होता है। इसलिए पौधे रोपित करें। ज्योति चौहान, बुद्धि विहार

कोरोना महामारी में आक्सीजन के लिए लोग परेशान थे। आक्सीजन वाले अच्छे पौधे घरों में रोपित करें। हमारे घर में आक्सीजन और खुशबू वाले पौधे गमलों में लगे हैं। शाम को सुखद अहसास होता है। तसर्रुफ जिया, हिमगिरी कालोनी 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.