दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Moradabad Coronavirus News : जिला अस्पताल की इमरजेंसी फुल, मेडिकल ऑफिसर बोले-ऑक्‍सीजन वाला कोई बेड खाली नहीं है

इमरजेंसी में आने वाले मरीजों को बताया जा रहा है आक्सीजन का कोई बेड नहीं है।

Moradabad Coronavirus News ज‍िले में लगातार कोरोना संक्रम‍ितों की संख्‍या बढ़ रही है। सरकारी एल्-टू अस्पताल के साथ ही जिला अस्पताल की इमरजेंसी भी फुल हो चुकी है। कोरोना संक्रमित और आशंकित मरीजों के लिए ऑक्सीजन बेड नहीं है।

Narendra KumarMon, 10 May 2021 10:37 AM (IST)

मुरादाबाद, जेएनएन। सरकारी एल्-टू अस्पताल के साथ ही जिला अस्पताल की इमरजेंसी भी फुल हो चुकी है। कोरोना संक्रमित और आशंकित मरीजों के लिए ऑक्सीजन बेड नहीं है। सामान्य मरीजों के लिए अस्पताल में भर्ती करने लायक व्यवस्था बनाई हुई है। जिला अस्पताल इमरजेंसी में आने वाले मरीज की अगर ऑक्‍सीजन कम है तो इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर पहले ही तीमारदार को बता दे रहे हैं कि हमारे पास ऑक्‍सीजन  वाला कोई बेड खाली नहीं है। इमरजेंसी वार्ड में सभी मरीजों को ऑक्‍सीजन लगी है। वहां भर्ती करने लायक कोई स्थिति नहीं है। इसके बाद भी आपको रुकना है तो रुकिये। वरना कोई बात नहीं है।

एल-टू अस्पताल का हाल

कुल भर्ती मरीज, 87, आइसीयू में मरीज, 19, जनरल वार्ड में भर्ती मरीज, 68, एफएनसी पर मरीज, 00, बाइपैप पर मरीज, 05, ऑक्सीजन पर मरीज, 81,

जिला अस्पताल

इमरजेंसी में मरीज भर्ती, 9, सारी वार्ड में भर्ती मरीज 3, प्राइवेट वार्ड में ऑक्सीजन पर 18,

एल-टू में ऑक्सीजन की अतिरिक्त लाइन

कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए एल-टू अस्पताल में सेंट्रल ऑक्‍सीजन लाइन बनी हुई है। लगातार ऑक्सीजन की लाइन चलने की वजह से सर्विस में दिक्कत हो रही है। इस वजह से ऑक्‍सीजन की एक्सटेंशन लाइन बनाई जा रही है। जिससे पुरानी लाइन को बंद करके उसकी सर्विस की जा सके।

13 बेड का एक्सटेंशन वार्ड तैयार

सामान्य गंभीर मरीजों के इलाज के लिए इमरजेंसी कंसलटेंट कक्ष के सामने एक्सटेंशन टू तैयार हो गया है। इसमें 13 बेड की व्यवस्था है। बाहर तीमारदारों के बैठने के लिए भी पूरी व्यवस्था की गई है। वार्ड में एसी लगाया गया है। पैरामेडिकल स्टाफ के बैठने के लिए कक्ष अलग से तैयार कराया गया है। वार्ड में डबल टायलेट तैयार करा दिया गया है। दो से तीन दिन में वार्ड में मरीजों को भर्ती करना शुरू कर देंगे।

व्यवस्थाओं को बेहतर करने का प्रयास किया जा रहा है। एल-टू में खुद प्रतिदिन व्यवस्थाएं चेक करने के लिए जा रहा हूं। मरीजों से भी हालचाल पूछा जा रहा है।

डॉ. विनीत कुमार शुक्ल, अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.