मुरादाबाद में लाकडाउन में बढ़ गई महंगाई, दूध के दामों से राहत, दालों की कीमतों में आया उछाल

काबली चना 40 से 50 रुपये तक हो गया महंगा।

दूध के बढ़ते दामों से कुछ राहत मिली लेकिन दालों व तेल के दामों ने महंगाई का तड़का लगा द‍िया है। कोरोना की लहर को दो महीने हो चुके हैं इसी बीच दाल और तेल के दामों से आम आदमी कराह उठा है।

Narendra KumarSat, 08 May 2021 03:11 PM (IST)

मुरादाबाद, जेएनएन। प्रशासन का चाबुक चलने से दूध के बढ़ते दामों से कुछ राहत मिली लेकिन, दालों व तेल के दामों ने महंगाई का तड़का लगा द‍िया है। कोरोना की लहर को दो महीने हो चुके हैं, इसी बीच दाल और तेल के दामों से आम आदमी कराह उठा है। काबली चना फुटकर में 40 से 50 रुपये तक महंगा हो गया है। दो महीने पहले काबली चना 60 रुपये किग्रा फुटकर में था और अब 120 रुपये किग्रा पहुंच गया है। चने की दाल पर भी 10 रुपये तक की तेजी आई है।

दालें गाजियाबाद की मंडी से आ पहले की तरह रही हैं। लेकिन, इसके बावजूद दालों व तेल के दामों में उछाल आया है। व्यापारियों की मानें तो लाकडाउन में अगर दाल, तेल समेत अन्य सामान की आपूर्ति की चेन टूटी तो महंगाई और बढ़ सकती है। महंगाई की वजह मुद्रा स्फीति की दर बढ़ने के कारण बताई जा रही है। कटरा नाज में किराना व्यापारी अमित बंसल कहते हैं कि दो महीने में दाल, तेल के दामों में तेजी आई है। काबली चना सबसे ज्यादा तेज हुआ है। अब सस्ता तेल रखना शुरू कर दिया है। अंचित अग्रवाल कहते हैं कि तेल की महंगाई पांच महीने में लगभग दो गुने के करीब पहुंच चुकी है। होली के बाद से तो एक दम तेजी आई है। होली के आसपास 130 रुपये किग्रा ब्रांडेड सरसों का तेल था लेकिन अब तो और दाम बढ़ गए।

कोराना में दालों की ढुलाई महंगी

कोरोना काल में दालों की ढुलाई ठेले वालों ने महंगी कर दी है। दुकान खुलने का समय सुबह छह से 11 बजे तक निर्धारित है। जिससे ठेले वालों की संख्या लाकडाउन में घटने से ढुलाई के दामों में प्रति कट्टा दो रुपये बढ़ा दिए हैं। लाकडाउन से पहले पांच रुपये प्रति कट्टा ढुलाई थी लेकिन, अब तो सात रुपये तक वसूल रहे हैं।

दो महीने में दालों में तेजी की स्थिति

दाल           पहले               अब

अरहर    90-100              110-120

काबली     60-70               120

मूंग धुली दाल 90-95          110-120

राजमा चित्रा 120                 140

राजमा लाल 100                  120

चने की दाल 60-70              80-90

उड़द की धुली दाल 100             120

उड़द     80                              100

सरसों के तेल के दाम हो गए दोगुने

ब्रांड रिफाइंड का तेल पिछले पांच महीने में करीब दोगुने हो गए हैं। पहले 90 से 95 रुपये किग्रा था और अब 170 से 175 रुपये तक पहुंच गए हैं। यही हाल रिफाइंड का है। पहले रिफाइंड 90 रुपये किग्रा था लेकिन अब 155 से 160 रुपये किग्रा तक पहुंच गया है। इस महंगाई के कारण व्यापारियों ने भी अब ब्रांडेड कंपनी का तेल रखना बंद कर दिया है। लोग भी सस्ता तेल खरीद रहे हैं।

शासन की मेहरबानी से घटे दूध के दाम

प्रशासन की मेहरबानी से दूध के दाम डेयरी स्वामियों ने घटा दिए हैं। अप्रैल में दो रुपये दूध के दाम बढ़ा दिए थे लेकिन, दूध आवश्यक सेवा में शामिल है। इसकी वजह से प्रशासन ने 20 अप्रैल को निर्देश जारी किए तो दो रुपये दूध के दामों में घटा दिए। अब 50 रुपये लीटर दूध बिक रहा है। दही के दामों में कहीं दस रुपये की तेजी तो कहीं पुराने रेट पर है। यही हाल पनीर का भी है। रामगंगा विहार फेस दो 300 रुपये किग्रा पनीर बेचने का दावा किया जा रहा है जबकि दूसरी दुकानों पर 320 रुपये है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.