तेंदुआ पकड़ने के लिए वन विभाग ने काजीपुरा में लगाया पिजरा

तेंदुआ पकड़ने के लिए वन विभाग ने काजीपुरा में लगाया पिजरा
Publish Date:Thu, 29 Oct 2020 03:06 AM (IST) Author: Jagran

मुरादाबाद: दशहत का पर्याय बने तेंदुए को दबोचने के प्रयास में वन विभाग ने बुधवार को शहर की सीमा पर काजीपुरा में पिजरा लगा दिया। इसके अलावा ट्रैप कैमरे से भी उसकी गतिविधि पर नजर रखने की कोशिश की जा रही है। हालांकि इन सबके बाद भी ग्रामीणों के बीच पसरे खौफ को कम करने में वन विभाग विफल है। ग्रामीण पूरी रात जागकर बिता रहे हैं।

सिविल लाइन थानाक्षेत्र में काजीपुरा गांव व इसके आसपास बीते पांच दिनों से लगातार तेंदुआ देखा जा रहा है। काजीपुरा निवासी आशीष कुमार व उनके ईंट-भट्ठे पर काम करने वाले मजदूरों से तेंदुए का तीन बार सामना हो चुका है। हरिद्वार रोड स्थित हाट मिक्स प्लांट के सीसीटीवी कैमरे ने लगातार दो रात तेंदुए को कैद किया। पांच दिनों में पांच बार तेंदुआ देखे जाने के दावे ने वन विभाग की नींद उड़ा दी। दहशतजदा ग्रामीणों से लगातार मिल रही चौंकाने वाली सूचनाओं ने वन विभाग को काजीपुरा में पिजरा लगाने पर मजबूर कर दिया। बुधवार को डिप्टी रेंजर मनोज वर्मा के नेतृत्व में कांठ से पिजरा काजीपुरा लाया गया। काजीपुरा में ईंट-भट्ठे के समीप पिजरा लगाया गया है। इसके अलावा वन कर्मी व ग्रामीण रतजगा कर रहे हैं। वन विभाग ग्रामीणों को लगातार एहतियात बरतने के दिशा निर्देश दे रहा है। हालात पर नजर रखने के लिए ट्रैप कैमरे तक का इस्तेमाल किया जा रहा है। हालांकि तेंदुआ वन विभाग के कैमरे को छकाने में सफल रहा है। बगैर बकरी लगा दिया पिजरा

वन विभाग ने काजीपुरा में जो पिजरा लगाया है, वह बकरी विहीन है। खाली पिजरा इस बात का प्रमाण है कि वन विभाग हालात को गंभीरता से नहीं ले रहा। शातिर तेंदुए को दबोचने की कथित कोशिश में वन विभाग ने पिजरे को खाली छोड़ दिया है। ऐसे में उसका पकड़ा जाना मुमकिन नहीं दिख रहा। यही वजह है कि वन विभाग की कार्यप्रणाली से ग्रामीणों में असंतोष है। काजीपुरा में पिजरा लगाया जा चुका है। ट्रैप कैमरे की मदद से भी तेंदुए के मूवमेंट पर वन विभाग नजर रख रहा है। इसके अलावा ग्रामीणों को सजग किया गया है। क्षेत्र में जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

कन्हैया पटेल, डीएफओ, मुरादाबाद

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.