top menutop menutop menu

मुरादाबाद से अपहृत मासूम गाजियाबाद में मिला, मुरादाबाद पुलिस को सौंप दिया

मुरादाबाद से अपहृत मासूम गाजियाबाद में मिला, मुरादाबाद पुलिस को सौंप दिया
Publish Date:Sat, 08 Aug 2020 01:36 PM (IST) Author: Dharmendra Pandey

मुरादाबाद, जेएनएन। पीतलनगरी मुरादाबाद से शुक्रवार की शाम को अपहृत पांच वर्षीय मासूम ध्रुव कुमार शनिवार को दिन में करीब 12 बजे गाजियाबाद में मिला है। गाजियाबाद के कौशांबी पुलिस चौकी के कर्मियों ने ध्रुव कुमार के परिवार के लोगों को फोटो शेयर की है। जिसमें ध्रुव कुमार कौशांबी बस डिपो के पास कौंशाबी पुलिस चौकी में बैठा है। मुरादाबाद से उसके पिता फाइनेंस कंपनी के एजेंट गौरव कुमार के साथ घर के अन्य लोग ध्रुव कुमार को लेने गाजियाबाद रवाना हो गए हैं।

मुरादाबाद से अगवा हुआ पांच साल का बच्चा गाजियाबाद में मिल गया है। बच्चे को गाजियाबाद पुलिस ने आज दिन में मुरादाबाद पुलिस को सौंप दिया है। रोडवेज की बस में बच्चा लावारिस हालत में चालक- परिचालक को मिला था। उन्होंने उसे लिंक रोड थाना के महाराजपुर चौकी पर पुलिस को सौंप दिया था। बच्चे की पहचान मुरादाबाद से अगवा हुए पांच साल के बच्चे ध्रुव कुमार के रूप में हुई। इसके बाद गाजियाबाद पुलिस ने मुरादाबाद पुलिस से संपर्क कर बच्चे को उन्हेंं सौंप दिया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया है कि मुरादाबाद पुलिस की मदद की गई है।

छिपाती रही पुलिस

दोपहर एक बजे तक लिंक रोड थाना पुलिस बच्चे के मिलने की सूचना को छिपाती रही। बच्चे की चौकी में बैठे होने की फोटो देखने के बावजूद चौकी प्रभारी मानवेंद्र सिंह ने बच्चे के मिलने की जानकारी से पूरी तरह से इंकार कर दिया। लिंक रोड थाना प्रभारी शैलेंद्र प्रताप सिंह भी कहते रहे कि कोई बच्चा नहीं मिला है। वहीं कौशांबी डिपो के प्रभारी भी शनिवार दोपहर बच्चे के बारे में जानकारी लेने चौकी पहुंचे, पुलिस ने उन्हेंं भी कुछ बताने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि कोई चालक या परिचालक किसी बच्चे को नहीं दे गया है। पुलिस को अपहृत बेटा ध्रुव कुमार गाजियाबाद में नोएडा डिपो की बस में मिला। 

मुरादाबाद से शुक्रवार की शाम घर के बाहर खेल रहे पांच वर्ष के मासूम ध्रुव कुमार का अपहरण कर लिया गया था। इसके बाद से अपहरणकर्ताओं ने ध्रुव कुमार के पिता फाइननेंस कंपनी में कलेक्शन एजेंट विकास कुमार से 30 लाख फिरौती मांगी। यह लोग एक-एक घंटा पर फोन करके फिरौती जल्दी देने को कह रहे थे। इसके बाद बच्चे की तलाश में पुलिस टीमें लगाई गईं। मुरादाबाद के मझोला के लाइनपार के रामलीला मैदान के पास के निवासी विकास कुमार को अपहरणकर्ता ने कॉल करके फिरौती मांगी और कहा कि रुपये मिलते ही वह उनके बेटे को बस में बैठा देंगे। अपहरणकर्ता फोन करके 30 लाख की फिरौती मांग रहे हैं। तीन बार कॉल करके अपहरण करने वाले ने बच्चे के पिता से फिरौती मांगी। रकम कहां पहुंचानी है यह नहीं बताया। तीसरी बार कॉल करने के दौरान ध्रुव के पिता ने अपहरणकर्ता से यह सवाल कर लिया कि रकम कहां लेकर आना है। इस पर अपहरणकर्ता ने कहा कि तुम्हारी औकात है 30 लाख देने की, जो लाने की बात कर रहे हो। इससे साफ जाहिर हो रहा है कि अपहरण करने वाला गौरव के परिवार के बारे में सबकुछ जनता है। पुलिस घटना के बाद से ही बच्चे की सकुशल बरामदगी के लिए प्रयास में लगी थी।

शनिवार की सुबह सात बजे बच्चे के पिता के मोबाइल पर फिर कॉल आई है। फोन पर अपहरणकर्ता ने कहा कि पुलिस कुछ नहीं कर पायेगी। फिरौती की रकम देने पर वह बच्चे को बस में बैठा देगा। बस स्टैंड से अपने बच्चे को ले लेना। अपहरणकर्ता इंटरनेट के जरिए बच्चे के पिता को कॉल कर रहा था। इसी कारण पुलिस को भी लोकेशन ट्रेस करना मुश्किल था।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.