बीएसएनएल का पार्टनर आपके घर तक पहुंचाएगा ब्राडबैंड, जानिए क्‍या है विभाग की तैयारी

पार्टनर नियुक्त होने के बाद नए क्षेत्रों में ब्राडबैंड का कनेक्शन दिया जा रहा है।
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 08:51 AM (IST) Author: Narendra Kumar

मुरादाबाद, जेएनएन। सरकारी आफिस के झंझट से लोगों को मुक्ति दिलाने के लिए बीएसएनएल ने प्राइवेट व्यक्ति को पार्टनर बनाया है। जो क्षेत्र के लोगों से ब्राडबैंड के कनेक्शन का आवेदन लेंगे, कनेक्शन लगाने के साथ ही रखरखाव भी करेंगे। कोरोना संक्रमण से पहले ही बीएसएनएल की आर्थिक स्थिति खराब हो गई थी। 50 फीसद अधिकारियों और कर्मचारियों को सेवानिवृत्त किया जा चुका है।

कोरोना महामारी के चलते देश भर में लॉकडाउन शुरू हो गया। बीएसएनएल को केबिल आदि उपकरण की आपूर्ति बंद कर दी गई। टेलीफोन या ब्राडबैंड के कनेक्शन देने को तार तक नहीं हैं। लाइनमैन का पद खत्म हो चुका है। खराब फोन को ठीक करने वाला कर्मचारी तक नहीं है। कोरोना काल में ही आनलाइन पढ़ाई और आफिस का काम घर से करने की व्यवस्था शुरू हो गई। इसके लिए ब्राडबैंड व आप्टिकल फाइबर नेटवर्क के कनेक्शन की मांग बढ़ गई है। महानगर के कई क्षेत्रों में भूमिगत केबिल व आप्टिकल फाइबर केबिल तक नहीं डाली गई है। फंड के अभाव में सरकार बीएसएनएल को बजट उपलब्ध नहीं करा पा रही है। शहरी क्षेत्रों में बीएसएनएल के पार्टनर बनाए गए हैंं। आनलाइन ब्राडबैंड व आप्टिकल कनेक्शन के लिए आने वाले आवेदन पार्टनर के पास भेज दिए जाते हैं। पार्टनर आवेदक से संपर्क करता है और आवेदन फार्म भरवाता है और शुल्क जमा करता है। जहां तक बीएसएनएल की ओएफसी होती है, वहां से लेकर आवेदक के घर तक पार्टनर केबिल डालता है। खराब होने पर ठीक करने, बिल पहुंचाने व बिल जमा भी पार्टनर कराएगा। बीएसएनएल ने महानगर को चार क्षेत्रों में बांट दिया है। सभी क्षेत्र में पार्टनर नियुक्त किया है। पार्टनर नई कालोनी जहां भूमिगत केबिल अब तक नहीं पहुंची है, वहां कनेक्शन देने का काम करेंगे। महाप्रबंधक संजय प्रसाद ने बताया कि वैसे क्षेत्र जहां भूमिगत केबिल नहीं है, वहां बाडबैंड कनेक्शन देने के लिए पार्टनर तैनात किए गए हैं। जो कालोनी के अंदर केबिल डालने, कनेक्शन देने व रखरखाव का काम करेंगे।  पार्टनर नियुक्त होने के बाद नए क्षेत्रों में ब्राडबैंड का कनेक्शन दिया जा रहा है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.