जिले में 12 लाख लोगों को लगी कोरोना की पहली डोज, लक्ष्‍य पूरा करने के ल‍िए स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग के पास कम वक्‍त

ज‍िले में सबसे पहले हेल्थ वर्कर को वैक्सीन लगाई गई। इसके बाद फ्रंट लाइन वर्कर और फिर आम लोगों की बारी आई। स्वास्थ्य विभाग का लक्ष्य दिसंबर माह तक जिले में हर व्यस्क को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगाने का रखा गया है।

Narendra KumarPublish:Mon, 06 Dec 2021 11:57 AM (IST) Updated:Mon, 06 Dec 2021 11:57 AM (IST)
जिले में 12 लाख लोगों को लगी कोरोना की पहली डोज, लक्ष्‍य पूरा करने के ल‍िए स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग के पास कम वक्‍त
जिले में 12 लाख लोगों को लगी कोरोना की पहली डोज, लक्ष्‍य पूरा करने के ल‍िए स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग के पास कम वक्‍त

मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। रामपुर जिले में कोरोना वैक्सीनेशन का सिलसिला जारी है। अब तक 12 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगाई जा चुकी है, जबकि 31 दिसंबर तक 14 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगाने का लक्ष्य है। स्वास्थ्य विभाग के पास लक्ष्य पूरा करने के लिए समय कम बचा है और इन दिनों राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत काम करने वाले चिकित्सक, नर्स, एएनएम आदि स्टाफ हड़ताल पर है। ऐसे में लक्ष्य समय पर पूरा करना विभाग के लिए चुनौती बन गया है।

कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन की शुरुआत इसी साल 16 जनवरी से हुई थी। सबसे पहले हेल्थ वर्कर को वैक्सीन लगाई गई। इसके बाद फ्रंट लाइन वर्कर और फिर आम लोगों की बारी आई। स्वास्थ्य विभाग का लक्ष्य दिसंबर माह तक जिले में हर व्यस्क को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगाने का रखा गया है। इनकी अनुमानित संख्या 14 लाख है। 30 नवंबर से राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संविदा कर्मी हड़ताल पर चले गए हैं। ऐसे में वैक्सीनेशन का काम प्रभावित हो रहा है। पहले जहां रोजाना 20 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही थी, वहीं अब इनकी संख्या छह से सात हजार रह गई है। ऐसे में लक्ष्य तक पहुंचना मुश्किल हो रहा है।

लक्ष्य पाने को हर संभव प्रयास : कोरोना के नोडल अधिकारी एसीएमओ डा. मनोज कुमार शुक्ला ने बताया कि अब तक 16.59 लाख वैक्सीन लगाई जा चुकी है, जिसमें पहली डोज लगवाने वालों की संख्या 12 लाख है। 4.66 लाख लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी है। हड़ताल के कारण अब कई सेंटरों पर वैक्सीनेशन नहीं हो पा रहा है। हालांकि विभाग का स्थायी स्टाफ वैक्सीनेशन कर रहा है। लक्ष्य समय रहते पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।