महिला डाक्टर भी हुई कोरोना संक्रमित, परिवार क्वारंटाइन

बीएचयू के लैब से गुरुवार को आई ढाई सौ लोगों की रिपोर्ट में जिला महिला चिकित्सालय में तैनात एक महिला डाक्टर को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया। आनन फानन में डॉक्टर को आइसोलेशन वार्ड भेजा गया। उनके परिवार के लोगों को

JagranThu, 18 Jun 2020 05:56 PM (IST)
महिला डाक्टर भी हुई कोरोना संक्रमित, परिवार क्वारंटाइन

जागरण संवाददाता, मीरजापुर : बीएचयू के लैब से गुरुवार को आई 250 लोगों की जांच रिपोर्ट आने पर जिला महिला चिकित्सालय में तैनात एक महिला डाक्टर भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई। इसकी जानकारी होने के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में डॉक्टर को आइसोलेशन वार्ड भेजा गया। उनके परिवार के लोगों को क्वांटाइन कर दिया गया। वहीं डॉक्टर के संपर्क में आए मरीजों की तलाश शुरू कर दी गई है। किसके संपर्क में आने से डाक्टर संक्रमित हुई, इसका पता लगाया जा रहा है। वहीं 249 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। साथ ही 100 लोगों का सैंपल लेकर जांच के लिए वाराणसी भेजा गया है।

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 14 जून रविवार को सतर्कता के तौर पर जिला महिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्साधिकारी समेत वहां तैनात 50 कर्मचारियों का सैंपल लेकर जांच के लिए बीएचूय भेजा था। इसके अलावा 143 लोगों का जिला चिकित्सालय समेत अन्य स्थानों से स्वैब लेकर भेजा गया था। जिसकी रिपोर्ट गुरुवार को आई तो उसमें महिला अस्पताल में तैनात एक महिला डाक्टर कोराना वायरस से संक्रमित पाई गई। इसकी खबर लगते ही चिकित्सालय में हड़कंप मच गया। चिकित्सालय प्रशासन सकते में आ गया और हर तरफ इसी की चर्चा होने लगी। अन्य सभी लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव है जिससे थोड़ी बहुत राहत रही। अधिकारियों की मानें तो जिन मरीजों का उन्होंने जून में इलाज किया है उनका सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा। जिससे उनको कोरोना वायरस से पीड़ित होने से बचाया जा सके। वहीं विभाग की टीम द्वारा जिला चिकित्सालय समेत अन्य स्थानों से 100 लोगों का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा है। विभाग की मानें को कुछ पॉजिटिव मरीजों का भी सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया है। डाक्टर के कमरे को किया सील

महिला चिकित्सालय के एक डाक्टर के संक्रमित होने पर विभाग की टीम चिकित्सालय पहुंची और पूरे अस्पताल को सैनिटाइज कराया। उनके कमरे को सील कर दिया। आपरेशन कक्ष को भी सैनिटाइज कराया गया। सभी औजार भी साफ किए गए। इसके अलावा उनके संपर्क में आए सामानों को भी सैनिटाइज करने का निर्देश दिया गया। डाक्टर में कोरोना का नहीं दिखा लक्षण

महिला चिकित्सालय में तैनात डाक्टर प्रतिदिन चिकित्सालय जाकर मरीजों का इलाज व आपरेशन कर रही थी लेकिन इस दौरान उनमें कोरोना का कोई लक्षण दिखाई नहीं दिया और न ही उन्हें किसी प्रकार की परेशानी हुई। उन्हें न कभी बुखार आया और न ही गले में खरास हुई। इससे वह चिकित्सालय में काम करती रही। अगर स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा चिकित्सालय के समस्त डाक्टर समेत कुल 50 लोगों का सैंपल लेकर जांच के लिए नहीं भेजती तो इसका खुलासा भी नहीं होता और सैंकड़ों मरीज उनकी जद में आकर कोरोना वायरस से पीड़ित हो जाते। महिला डॉक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से मोहल्ले में हड़कंप

महिला चिकित्सालय में तैनात डाक्टर के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उनके मोहल्ले में हड़कंप मच गया। उनके परिवार के संपर्क में आए लोगों की नींद उड़ गई। बताया गया कि उनके परिवार के लोगों से मोहल्ले के लोगों का काफी मेलजोल हैं। ऐसे में वे लोग भी सकते में आ गए। महिला चिकित्सालय में कुल 170 स्टाफ हैं

महिला चिकित्सालय में कुल 170 से अधिक स्टाफ हैं। इसमें डाक्टर, स्टाफ नर्स, सफाई कर्मी, लिपिक समेत अन्य कर्मचारी शामिल है। यहां पर महिला डाक्टर के पॉजिटिव पाए जाने के बाद अन्य सभी की जांच कराना अति आवश्यक हो गया है। सीएमओ डा. ओपी तिवारी ने बचे हुए कर्मचारियों का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजने को कहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.