दिलो-दिमाग पर कतई प्रभावी न होने पाए कोरोना का खौफ

भाग-दौड़ भरी जिदगी में एकाएक ब्रेक लगने पर संतुलन बनाना बहुत ही जरूरी हो जाता है। यह वक्त भी कुछ वैसा ही है। कोरोना को हराने के लिए जहां सरकार हरसंभव प्रयास करने में जुटी है वहीं हमारा भी दायित्व बनता है कि ऐसे में हम भी धैर्य व संयम के साथ उसका पूरा साथ दें।

JagranTue, 31 Mar 2020 04:32 PM (IST)
दिलो-दिमाग पर कतई प्रभावी न होने पाए कोरोना का खौफ

जागरण संवाददाता, मीरजापुर : भाग-दौड़ भरी जिदगी में एकाएक ब्रेक लगने पर संतुलन बनाना बहुत ही जरूरी हो जाता है। यह वक्त भी कुछ वैसा ही है। कोरोना को हराने के लिए जहां सरकार हरसंभव प्रयास करने में जुटी है वहीं हमारा भी दायित्व बनता है कि ऐसे में हम भी धैर्य व संयम के साथ उसका पूरा साथ दें। वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना को मात देने के लिए जरूरी है कि हम हर तरह की सावधानी बरतते हुए पूरा का पूरा वक्त अपनों के साथ बिताएं। अपने दिलो-दिमाग पर कोरोना के भय को कतई प्रभावी न होने दें। हर वक्त न तो कोरोना के बारे में परिवार वालों से बात करें और न उस बारे में सोचें ही, ऐसा करने से आप बेवजह मानसिक तनाव में आ सकते हैं।

हम जिस विषय में भी बहुत देर तक सोचते व मनन करते हैं वह हम पर हावी हो जाता है। ऐसे में उसका नफा-नुकसान नजर आने लगता है जो कि किसी के लिए भी खतरनाक हो सकता है। लाक डाउन की स्थिति में सभी चीजें ठहर सी गयी हैं। इसके लिए जरूरी है कि अपनी दिनचर्या में बदलाव लाए और यदि आवश्यक सेवाओं से नहीं जुड़ें हैं तो घर से बाहर निकलने से परहेज करें। टीवी, अखबार और सोशल मीडिया में सिर्फ कोरोना के बारे में देखने-समझने और अपनों से सिर्फ उसी बारे में बात करने से बचें। ऐसा करने से आप मानसिक तनाव में आकर अपने साथ ही घर के अन्य सदस्यों को बीमार बना सकते हैं। इससे ध्यान हटाने के लिए उन्होंने टीवी सीरियल देखने, पुस्तकें पढ़ने आदि की सलाह दी। खाना बनाने का शौक है तो किचेन में बिताएं कुछ वक्त: यदि आपको घर पर ही रहना है तो अपने शौक को जिदा रखिए। अगर खाना बनाने का शौक है तो अपने हाथों से कुछ नई डिश बनायें और अपनों के साथ शेयर करें। ऐसा करने से जहां अपनापन बढे़गा वहीं आपका वक्त भी बोरियत भरा नहीं होगा। इसके साथ ही यह भी ख्याल रखें कि हर काम में सा़फ-सफाई बरतने के साथ ही ऐसा ही डिश बनायें जो लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला हो, क्योंकि कोरोना की गिरफ्त में सबसे पहले वही आते हैं जिनकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। मनपसंद सीरियल व ़िफल्में देखें, पुस्तकें पढ़ें : कोरोना के चलते घर पर ही समय बिता रहे कुछ नौकरी-पेशा व व्यापारियों से बात की तो उनका कहना था कि जो परिस्थितियां सामने हैं वैसे में हर किसी को बहुत ही धैर्य और संयम की जरूरत है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.