Cold Weather & Rain : मेरठ और आसपास के जिलों में बदला मौसम, बढ़ी सर्दी, कई जगह बूंदाबांदी

मेरठ और आसपास के जिलों में गुरुवार को सारे दिन आसमान में बादल छाए रहे। शाम को कई स्‍थानों पर बूंदाबांदी हुई। इससे ठंड में बढ़ोत्तरी हो गई। मौसम विज्ञानी आगामी कई दिनों तक ऐसा ही मौसम रहने का पूर्वानुमान जता रहे हैं।

Parveen VashishtaThu, 02 Dec 2021 05:46 PM (IST)
मेरठ और आसपास के जिलों में बदला मौसम, बढ़ी सर्दी, कई जगह बूंदाबांदी

मेरठ, जेएनएन। मेरठ और आसपास के अधिकांश जिलों में गुरुवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहे। शाम के समय कई स्‍थानों पर हल्की बूंदाबांदी भी शुरू हो गई। इससे ठंड में भी बढ़ोतरी हुई।

दिसंबर महीने की शुरुआत होते ही सर्दी बढ़ने लगी है। गुरुवार को मेरठ और आसपास के जिलों के अधिकांश इलाकों में सुबह से ही बादल छाए हैं। शाम के समय हल्की बूंदाबांदी शुरू हो गई। मौसम विज्ञानियों के अनुसार आगामी कई दिनों तक ऐसा मौसम रह सकजता है। कहीं तेज तो कहीं धीमी वर्षा हो सकती है। इससे सर्दी बढ़ जाएगी।

बिजनौर में सारे दिन छाए रहे बादल

बिजनौर। गुरुवार को सारे दिन आसमान में बादल छाए रहे। शाम को करीब चार बजे जिला मुख्यालय समेत जिलेभर में बूंदाबांदी हुई। आसमान में बादल और हल्की बारिश होने से जहां ठंड में बढ़ोत्तरी हुई है, वहीं ठंड के कारण बाजार भीड़ कम दिखाई दे रही है। अभी तक आसमान में बादल छाए हुए है। हवा शीतलहर में बदलती जा रही है। मौसम खराब होने तथा बूंदाबांदी होने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच रही है। किसानों को डर है कि गन्ना आपूर्ति जल्दी न होने से गेहूं बुआई लेट हो रही है। यदि अच्छी बारिश हुई, तो गेहूं बुआई में देरी बढ़ेगी। वजह बारिश होने से गन्ना छिलाई पर विराम लग जाएगा। जनपद का अधिकतम तापमान 20.4 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 11.7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।

बुलंदशहर में बूंदाबांदी के बाद बढ़ी ठंड

बुलंदशहर। गुरुवार को शाम के समय बूंदाबांदी होने से ठंड बढ़ गई। जिस कारण काफी लोग अपने घरों से नहीं निकले। बुधवार के बाद गुरुवार को बादल छाए रहने की वजह से धूप नहीं निकली। दोपहर के समय कुछ समय के लिए हल्की बूंदाबांदी हुई। जिसके बाद शाम के समय कुछ देर तक बूंदाबांदी होने का क्रम जारी रहा। जिससे ठंड भी बढ़ गई। ठंड बढऩे के कारण घरों से बच्चे और बुजुर्गों भी घरों में ही रहे।

सहारनपुर में बुधवार की तरह गुरुवार को भी सूरज नहीं निकला

सहारनपुर। बुधवार की तरह गुरुवार को भी सूरज नहीं निकला। इससे ठंड का प्रकोप और बढ़ गया, जिसका असर आम जनजीवन पर पडऩे लगा है। गुरुवार को भी दिन भर धूप नहीं निकली और लोग ठंड से दो-चार होते रहे। सुबह के अलावा शाम होने के साथ ही ठंड क्षेत्र को जकड़ रही है। बढ़ती ठंड का असर काम पर भी पडऩे लगा है। दो दिन से देर शाम तक खुलने वाले बाजार भी दिन ढलते ही बंद होना शुरू हो जाते हैं। गंगोह और अन्य क्षेत्रों में अभी तक अलावा आदि की कोई व्यवस्था न होने के कारण गरीब व असहाय लोगों को परेशानी हो रही है। शुक्रवार को भी मौसम ऐसा ही रहा तो छोटे बच्चों को ठंड में स्कूल जाने में परेशानी होगी। ठंड के कारण अनेक बीमारियां भी दस्तक दे सकती हैं।

मुजफ्फरनगर में भी नहीं हुए सूरज के दर्शन

मुजफ्फरनगर। जिले में गुरुवार को पूरे दिन सूरज के दर्शन नहीं हुए। सर्दी बढऩे से बाजारों में गर्म कपड़ों की बिक्री में तेजी आ गई है।

गुरुवार को दिनभर सूरज के दर्शन नहीं होने से लोगों ने मिुजफ्फरनगर में भी नहीं हुए सूरज के दर्शन

मुजफ्फरनगर। जिले में गुरुवार को पूरे दिन सूरज के दर्शन नहीं हुए। सर्दी बढऩे से बाजारों में गर्म कपड़ों की बिक्री में तेजी आ गई है। गुरुवार को दिनभर सूरज के दर्शन नहीं होने से लोगों ने ठिठुरन महसूस की। ठंड से बचने के लिए लोग स्वेटर, कोट, जैकेट कैप, मफलर, दस्ताने और मौजे व जूते पहनें नजर आए। महिलाएं कार्डिगन, शॉल और कोट में नजर आईं। बाजारों में लोगों ने जर्सी, जैकेट कोट, कैप, मफलर, दस्ताने आदि गर्म कपड़ों की खरीदारी की। जूते की दुकानों पर भी ग्राहक नजर आए। हीटर की भी खासी बिक्री हुई। लोगों ने कंबल और रजाई की खरीदारी भी की। रूई की दुकानों पर भी ग्राहकों को खरीदारी करते हुए देखा गया। लोगों की भीड़ से बाजारों में रौनक रही।

बागपत में बूंदाबादी से बढ़ी ठिठुरन

बागपत। मौसम में आए बदलाव के चलते गुरुवार को अचानक शुरू हुई हल्की बूंदाबादी से बढ़ रही ठंड के कारण जगह जगह बस स्टैंडो पर अलाव जलाए गए। ठंड बढऩे से अनेक लोग दिन में भी रजाइयों में दुबके नजर आए।

मौसम में दो दिन से आसमान में बादल छाए रहने से ठंड बढ़ती जा रही है। गुरुवार को मौसम में बदलाव आने के साथ साथ बूंदाबादी शुरू हो गई। हल्की हवा भी चली। ठंड बढऩे से जन-जीवन प्रभावित रहा। सूर्य देव दिन भर बादलों में दुबके रहे। इस जिस कारण ठंड बढऩे से क्षेत्र के पुसार, दाहा, दोघट, टीकरी, बामनौली आदि बस स्टैंडों एवं बाजारों में अलाव जलाए गए। अलाव के पास बैठकर राहगीर एवं दुकानदार हाथ तापते मिले।

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.