Waterlogging problem in Meerut: खड़ौली के स्कूल परिसर में जलभराव, बीमार होने की कगार पर बच्चे

हाईवे स्थित खड़ौली गांव के प्राइमरी स्कूल परिसर में नाला और बरसात का पानी का जलभराव होने से हालात बेहद खराब हो रहे हैं। पानी निकासी की कोई जगह नहीं है जिस वजह से भरा पानी सड़ने लगना है। पानी सड़ने से क्षेत्र में फैल बीमारी फैलने का मंडराया खतरा।

Taruna TayalFri, 17 Sep 2021 04:49 PM (IST)
मेरठ खड़ौली के स्कूल परिसर में जलभराव।

मेरठ, जेएनएन। हाईवे स्थित खड़ौली गांव के प्राइमरी स्कूल परिसर में नाला और बरसात का पानी का जलभराव होने से हालात बेहद खराब हो रहे हैं। पानी निकासी की कोई जगह नहीं है, जिस वजह से भरा पानी सड़ने लगना है। स्कूली बच्चे और शिक्षक बीमार होने की कगार पर हैं। स्थानीय पार्षद ने नगर निगम से जलभराव को खाली कराने की मांग की थी, मगर कुछ नहीं हुआ। पार्षद ने कहा कि नाला निर्माण कर गांव और प्राइमरी स्कूल में जलभराव की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वह इसकी शिकायत लखनऊ पहुंचकर मुख्यमंत्री से करेंगी।

यह है मामला

कंकरखेड़ा के खड़ौली में वार्ड-38 की स्थानीय पार्षद मंजू सैनी ने बताया कि गांव के लिए बड़ा नाला न होने की वजह से नालियों का पानी प्राइमरी स्कूल के पास मैदान में भर जाता है। बारिश के दिनों में अक्‍सर मैदान में और आस पास भरा पानी ज्यादा जगह में फैलने की वजह से स्कूल तक पहुंच जाता है। कई दिनों से हो रही बारिश और नालियों का पानी स्कूल परिसर में भर जाने से हालात बहुत खराब हो गए हैं । पानी सड़ चुका है, जिसकी वजह से बदबू फैल रही है ।

नगरायुक्त से भी की मांग

कई बार नगरायुक्त से नाला निर्माण कराने के लिए मांग की गई थी, मगर बावजूद इसके हालात जस के तस हैं। स्कूल में क्षेत्र के करीब सात सौ बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं। मगर जलभराव होने और सड़े हुए पानी से बदबू फैलने की वजह से अधिकांश बच्चे स्कूल नहीं आ पा रहे। बच्चों के अभिभावकों और शिक्षकों को सड़े पानी की वजह से बीमारी फैलने का खतरा मंडराता दिखाई दे रहा है। पार्षद ने कहा कि नाला निर्माण कर गांव और प्राइमरी स्कूल में जलभराव की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वह इसकी शिकायत लखनऊ पहुंचकर मुख्यमंत्री से करेंगी ।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.