UPSC 2020 Topper Success Mantra: मुश्किलों भरे सफर में नहीं मानी हार, बिजनौर की बिटिया काजल बता रहीं अपनी सफलता का राज

UPSC 2020 Topper Success Mantra बिजनौर की काजल सिंह ने यूपीएससी की परीक्षा में 202वीं रैंक हासिल कर जनपद का नाम रोशन किया। उन्‍होंने इस सफलता का श्रेय माता पिता को दिया है। काजल ने कोटा में छह माह की कोचिंग भी ली थी।

Prem Dutt BhattSat, 25 Sep 2021 12:54 PM (IST)
बिजनौर में बिटिया को बधाई देने को गांव में लगा तांता, स्वजन को दिया श्रेय।

बिजनौर, जागरण संवाददाता। बिजनौर जिले के हीमपुर दीपा में गांव फतेहपुर कला में किसान परिवार की होनहार बेटी काजल सिंह ने वर्ष 2020 की यूपीएससी की परीक्षा में 202वीं रैंक हासिल करते हुए जनपद का नाम रोशन किया है। काजल सिंह के घर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है। बेटी काजल के यूपीएससी के लक्ष्य को हासिल करने पर गांव वाले बेहद खुश हैं। उन्होंने अपनी सफलता का रहस्‍य सांझा किया है। हार नहीं माननी वाली काजल बतातीं हैं कि वे सामाजिक सेवा के लिए कार्य भी करेंगी।

यहां प्राप्‍त की शिक्षा

गांव फतेहपुर कला निवासी किसान परिवार में जन्मी काजल सिंह पुत्री देवेंद्र सिंह की प्रारंभिक शिक्षा उनके फूफा एडीओ पंचायत विकासखंड कोतवाली देहात में तैनात सुरेंद्र सिंह निवासी आसपुर नवादा के यहां रहकर हुई। इसके बाद उन्‍होंने दसवीं की शिक्षा वनस्थली जयपुर, इंटरमीडिएट की शिक्षा कोटा राजस्थान तथा स्नातक की शिक्षा दिल्ली से की।

20 घंटे तक अध्‍ययन

काजल ने 2017 में मुनिरका दिल्ली के एएलएस इंस्टीट्यूट में कोचिंग के अतिरिक्त सेल्फ स्टडी की। हालांकि कोचिंग की तैयारी में उसके समक्ष मुश्किलों भरा सफर रहा, लेकिन लक्ष्य प्राप्ति के लिए उसने हार नहीं मानी और आगे बढ़ कर छह माह तक कोटा राजस्थान में कोचिंग की। जिसके चलते 20 घंटे तक दिन-रात अध्ययन करते हुए वर्ष 2020 की यूपी पीसीएस परीक्षा में 36वीं रैंक हासिल की। जिनका चयन डिप्टी कलेक्टर के पद पर हुआ। फिर दूसरी बार 2020 में ही यूपीएससी के परीक्षा परिणाम में उसने 202वी रैंक हासिल करते हुए उसका आईपीएस के लिए चयन हुआ है।

दादा थे पुलिस में दारोगा

आईपीएस के लिए चयनित काजल सिंह इसका श्रेय अपने दादा स्वर्गीय गंभीर सिंह सेवानिवृत्त पुलिस सब इंस्पेक्टर, दादी राजवती, पिता देवेंद्र, मां कुसुम देवी सहित स्वजनों को देती हैं। उनका कहना है कि यदि समय-समय पर स्वजन उसका मार्गदर्शन नहीं करते तो यह लक्ष्य हासिल नहीं हो पाता। काजल सिंह ने बताया कि उसका लक्ष्य आईएएस की कड़ी मेहनत से तैयारी कर परीक्षा देने की है, ताकि वह अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सके।

समाजसेवा में दिलचस्पी

आईपीएस के चयन पर प्रफुल्लित काजल सिंह बताती हैं कि पदासीन होने के बाद सामाजिक सेवा के लिए कार्य करेंगी। उनका कहना था कि बेटियां हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा के बलबूते आगे हैं। उन्होंने अभिभावकों से जोरदार आह्वान किया कि बेटियों को मौका दिया जाना चाहिए, ताकि वह परिवार समाज और राष्ट्र के उत्थान में और उत्कृष्ट कार्य कर सकें।

परिवार में उत्सवी माहौल

काजल सिंह की कामयाबी पर क्षेत्रवासी बहुत प्रफुल्लित हैं। होनहार बिटिया की सफलता पर उन्हें बधाई देने वालों का घर पर तांता लगा हुआ है, जिससे उनका परिवार में उत्सव जैसा खुशियों का माहौल है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.