UP TET Paper Cancel: टीचर बनने की खुशियों पर ग्रहण, महीनों की मेहनत, मजबूत इरादे और ऐसे बिखर गए सपने

UP TET Paper Cancel मेरठ और आसपास के जिलों रविवार को टीईटी का पेपर सेंटरों पर पहुंचे अभ्यर्थी घोर निराशा के शिकार हो गए। चेहरे पर खुशी के साथ केंद्रों पर पहुंचे अभ्यर्थी को परीक्षा निरस्त होने का जब जानकारी हुई तो चेहरे पर मायूसी छा गई।

Prem Dutt BhattSun, 28 Nov 2021 02:10 PM (IST)
मेरठ सहित कई जिलों में टीईटी परीक्षा देने आए छात्र-छात्राओं को मायूसी हाथ लगी।

मेरठ, जेएनएन। UP TET Paper Cancel यह तो वाकई सपनों के साथ खिलवाड़ करने वाली बात है। रविवार को मेरठ और आसपास के जिलों में टीईटी 2021 निरस्‍त करने के बाद छात्र और छात्राएं बेहद निराश है। सभी अपने-अपने सेंटरों पर पूरी तैयारी के साथ पहुंचे थे। बागपत जिले में 17 केंद्रों पर टीईटी (शिक्षक पात्रता परीक्षा) निर्धारित थी। कुछ जनपदों में प्रश्न पत्र पहले ही आउट होने पर दोनों पालियों की परीक्षा निरस्त कर दी गई है। चेहरे पर खुशी के साथ केंद्रों पर पहुंचे अभ्यर्थी को परीक्षा निरस्त होने का जब जानकारी हुई तो चेहरे पर मायूसी छा गई।

चेहरों की खुशियों को छीन लिया

मुर्झाए हुए चेहरे के साथ परीक्षा केंद्रों से वापस लौट रहे थे। टीईटी (शिक्षक पात्रता परीक्षा) परीक्षा के लिए प्रशासन की ओर से प्रथम पाली में 17 केंद्र और दूसरी पाली में 12 केंद्र बनाए गए थे। प्रथम पाली में 8112 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। समय से करीब तीन घंटे पहले अभ्यर्थी केंद्रों पर पहुंच गए थे। अध्यापक बनने की खुशी चेहरे पर थी। महीनों की तैयारी और मजबूत इरादों के साथ परीक्षा में सम्मलित हुए थे। एक घंटे बाद ही अभ्यर्थियों तक पेपर आउट होने और परीक्षा रदद होने की सूचना पहुंची तो सभी के चेहरे पर मायूसी छा गई। प्रश्न पत्र पर कम, सूचनाओं पर ज्यादा ध्यान रहा। जब सेंटर से वापस लौटे तो सभी के चेहरे पर मायूसी थी। डीएम राजकमल यादव द्वारा परीक्षा के रदद होने की सूचना सेक्टर मजिस्ट्रेट, सभी केंद्रों के व्यवस्था, स्टेटिक मजिस्ट्रेस्ट और पर्यवेक्षकों तक पहुंचा दी थी।

15 मिनट पहले की छुट्टी

टीईटी परीक्षा दस बजे शुरू हो गई थी, लेकिन पेपर रदद होने की अधिकृत सूचना केंद्रों तक नहीं पहुंची तो पूरी प्रक्रिया के साथ परीक्षा को कराया जा रहा था। जब सूचना पहुंच गई थी 15 मिनट पहले परीक्षा छुट़्टी कर अभ्यर्थियों को कक्षों से बाहर निकाला गया।

अभ्यर्थियों से ले लिए गए प्रश्न पत्र

जिले में सभी केंद्रों पर अभ्यर्थियों से परीक्षा कराने के बाद उत्तर पुस्तिका को तो ली ही, उसके साथ-साथ प्रश्न पत्रों को भी ले लिया था। किसी भी अभ्यर्थी को प्रश्न पत्र नहीं दिए गए।

अतिरिक्त पुलिस बल रहा तैनात

परीक्षा रदद होने की सूचना पर अभ्यर्थी कोई हंगामा या तोड़फोड़ न कर दे इससे पहले ही सभी केंद्रों पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। कुछ केंद्रों पर आरएएफ भी तैनात रही है। जिला स्तरीय अधिकारी भी निरीक्षण करते रहे है। केंद्र व्यवस्थापकों को आवश्य दिशा निर्देश दिए।

समझा बुझाकर वापस भेजे गए अभ्यर्थी

बुलंदशहर : उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) का प्रश्नपत्र इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया। यह प्रश्न पत्र गैर जिलों से होता हुआ जिले के अधिकारियों तक भी पहुंचा। जिस पर प्रशासन में खलबली मच गई। आनन-फानन में परीक्षा नियामक प्राधिकारी प्रयागराज से संपर्क साधा जाने लगा। तब तक केंद्रों परीक्षा कक्ष में प्रश्नपत्र और ओमआर सीट अभ्यर्थियों को वितरित की जा चुकी थी। परीक्षा नियामक प्राधिकारी प्रयागराज के निर्देश मिलने पर प्रदेश के अन्य जिलों सहित जिले में दोनों पालिया में आयोजित इस परीक्षा को निरस्त कर दिया गया। जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह शहर के अलावा सिकंदराबाद के परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे। उन्होंने परीक्षार्थियों को परीक्षा के स्थगित होने और पुनः परीक्षा कराने जानकारी दी गई। सभी केंद्रों पर तैनात स्टेटिक मजिस्ट्रेट ओएमआर सीट एवं ओएमआर सीट एवं प्रश्न पुस्तिकाओं के सील बंद बंडल लेकर पहुंचने लगे। उधर, दूसरी पाली की परीक्षा आयोजित होने के लिए भी अभ्यर्थी एवं उनके अभिभाक संपर्क साधने लगे। जिन्हें दोनों पाली की परीक्षा निरस्त होने की जानकारी दी गई।

बोले-अभ्यर्थी तैयारी के अनुरूप था टीईटी का प्रश्न पत्र

बिजनौर : उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा स्थगित हो गई। प्रथम पाली में चल रही परीक्षा को सचिव के आदेश पर निरस्त कर दिया। परीक्षा निरस्त होने पर परीक्षा केंद्रों से बाहर निकले अभ्यर्थी मायूस दिखे। पूरी तैयारी के साथ परीक्षा केंद्र पर पहुंचे अभ्यर्थी बोले के इस बार वह 90 प्लस प्रतिशत हल कर देते और बहुत अच्छे अंक प्राप्त करते। स्थगित परीक्षा होने से उनके आने का समय खराब हुआ, यात्रा खर्च हुआ। फिर से उन्हें परीक्षा देने के लिए अभी से ही तैयार रहना पड़ेगा। माध्यमिक शिक्षा विभाग और प्रशासन ने जिला स्तर पर टीईटी की परीक्षा पूर्ण रूप से नक़लविहीन और शांतिपूर्वक सम्पन्न कराने की तैयारी कर रखी थी। गत शनिवार को प्रशासनिक, शिक्षा विभाग और पुलिस अधिकारियों ने केंद्रों का निरीक्षण किया था।

19107 अभ्यर्थी पंजीकृत

प्राथमिक स्तर की प्रथम पाली में शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए 27 परीक्षा केंद्र बनाएं गए है। इन केंद्रों पर 19107 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। प्रथम पाली में प्रात 10 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक होगी थी। कई केंद्रों पर अभ्यर्थी कक्षा में बैठक गए थे। परंतु परीक्षा स्थगित होने की सूचना के बाद अभ्यर्थियों को परीक्षा नहीं देने दी गई। कक्ष निरीक्षकों ने सभी अभ्यर्थियों से पेपर बीच में एकत्र कर लिए गए। परीक्षा कक्षों एवं अन्य मुख्य स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिनकी सतत निगरानी के लिए कार्मिकों को तैनात किया गया है।

द्वितीय पाली में परीक्षा को 13767 अभ्यर्थी थे पंजीकृत

उच्च प्राथमिक स्तर परीक्षा के लिए द्वितीय पाली में 20 परीक्षा केन्द्र बनाएं गए है। इन केंद्रों पर 13767 अभ्यर्थी पंजीकृत है। यह परीक्षा में द्वितीय पाली में 2.30 बजे से शाम 5 बजे तक सम्पन्न होनी थी।

सचिव के आदेश पर निरस्त हुई परीक्षा

सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी उत्तर प्रदेश प्रयागराज ने समस्त जिलाधिकारी व डीआइओएस को पत्र जारी कर कहा कि दोनों पालियों में आयोजित होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा को शासन द्वारा अपरिहार्य कारणों से निरस्त किये जाने के निर्देश दिए गए। उक्त दोनों पालियों की परीक्षा की अगली तिथि पृथक से घोषित की जाएगी।

यह बोले अधिकारी

सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी उत्तर प्रदेश प्रयागराज के निर्देशा पर परीक्षा को निरस्त करा दिया गया। प्रथम पाली में परीक्षा में बैठे अभ्यर्थियों से प्रश्न पत्र एवं उत्तर पुस्तिकाओं केंद्रों पर ले ली गई। दोनों पालियों की परीक्षाएं स्थगित हो गई। अग्रिम तिथि की सूचना मिलने पर सभी को जानकारी दे दी जाएगी।

- राजेश कुमार, डीआइओएस, बिजनौर।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.